मुंबई: केंद्र और महाराष्ट्र की सरकार में सत्ता में भागीदार शिवसेना एक बार फिर केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की फडणवीस सरकार से सवाल उठाए हैं. शिवसेना ने पार्टी मुखपत्र सामना और दोपहर का सामना के संपादकीय में महाराष्ट्र में किसानों और दूसरे लोगों द्वारा आत्महत्या करने की घटनाओं पर सोमवार को पीएम नरेंद्र मोदी से सवाल किया कि क्या यही उनके ‘अच्छे दिन’ के वादे हैं ? शिवसेना ने केंद्र और महाराष्ट्र में भाजपा की सरकारों पर दोषारोपण करते हुए कहा कि इन लोगों ने गरीबी, जीने के संसाधनों की कमी और सरकार की आर्थिक नीतियों के कारण पड़ने वाले वित्तीय बोझ के चलते इन लोगों ने खुदकुशी की है. Also Read - India-US Relation: चीन से विवाद के बीच एक साथ भारत आ रहे ट्रंप प्रशासन के दो सबसे बड़े मंत्री, जानिए आखिर क्यों?

Also Read - Reliance Jio ने ग्राहकों को दिया झटका, इस प्लान की कीमत में की बढ़ोतरी

बता दें कि बीते 23 जून को मुंबई मुंबई की उपनगरीय इलाके बांद्रा की गवर्नमेंट कॉलोनी में एक परिवार के चार लोगों ने आर्थिक तंगी के चलते आत्महत्या कर थी. शिवसेना ने पार्टी मुखपत्र सामना और दोपहर का सामना के संपादकीय में लिखा है कि वास्तविकता यह है कि महाराष्ट्र गंभीर संकट में है और लोगों को भूखे रहना पड़ता है, उनके पास जरूरतों की पूर्ति के साधन नहीं है. इसलिए पूरा-पूरा परिवार खुदकुशी कर रहा है. आत्महत्या की ये घटनाएं न सिर्फ मुफ्फसिल इलाके में, बल्कि मुंबई में भी हो रही हैं.” Also Read - जेल से छूटने के बाद ड्रग्स केस की आरोपी रिया चक्रवर्ती बिग बॉस 14 में करेंगी एंट्री? लेकिन...

मुंबई में आर्थिक तंगी के चलते एक परिवार के चार सदस्यों ने की सुसाइड

मुंबई में पूरे परिवार की खुदकुशी का हवाला दिया

पार्टी ने मुंबई में प्रवीण पटेल और रीना दंपति के 11 वर्ष के बेटे साथ आत्महत्या करने की घटना का जिक्र किया और कहा कि परिवार ने कैंसर से पीड़ित अपनी 14 साल की बेटी के इलाज के लिए भारी कर्ज लिया था. हाल ही में उनकी बेटी की मृत्यु हो गई. कर्ज अदा करने में लाचार होने पर परिवार ने खुदकुशी कर ली. शिवसेना ने कहा कि पिछले सप्ताह सरकारी कर्मचारी राजेश भिंगरे द्वारा आत्महत्या करने की घटना से मुंबई एक बार फिर सन्न रह गई. घर का खर्च चलाने में लाचार भिंगरे ने दो बच्चे और पत्नी समेत खुदकुशी कर ली.

सुसाइड के इन मामलों का भी जिक्र किया

– सोलापुर जिले के पंढरपुर में 21 साल की इंजीनियरिंग की छात्रा अलीशा नवाते ने इसलिए आत्महत्या कर ली, क्योंकि उसके माता-पिता उसकी पढ़ाई का खर्च उठाने में अक्षम थे.

– अहमदनगर जिले के पोखरी-बालेश्वर गांव में संतूजी फटंगरे ने अपनी दो नाबालिग बेटियों की गला दबाकर हत्या करने के बाद खुद भी जान दे दी, क्योंकि वह परिवार का भरण-पोषण नहीं कर पा रहे थे.

पीएम मोदी और सीएम फडणवीस पर हमला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस पर हमला बोलते हुए शिवसेना ने कहा कि दोनों बार-बार विदेशों के दौरे पर जाते हैं और वहां से लौटने पर हर बार विकास और समृद्धि लाने की बड़ी-बड़ी बातें करते हैं, जो कहीं दिखती नहीं है.

भूख और निराशा से पूरे राज्य में आत्महत्याएं हो रहीं

शिवसेना ने कहा, “कर्ज के बोझ से दबे किसानों की आत्महत्या की घटनाएं अबतक सिर्फ विदर्भ में देखी जाती थीं, मगर अब मुंबई समेत पूरे राज्य से इस तरह की रिपोर्ट मिल रही है. लोग गरीबी और भूख से निराश हैं और आत्महत्या कर रहे हैं.”

गरीबों से संपर्क टूटा, फिल्मी हस्तियों से कायम

बीजेपी द्वारा हाल ही में शुरू की गई संपर्क से समर्थन पहल पर सेना ने कहा कि वे (बीजेपी के लोग) माधुरी दीक्षित, सलमान खान, टाटा और बिड़ला के संपर्क में हैं, लेकिन देश के गरीबों से उनका संपर्क टूट गया है. शिवेसना ने कहा कि जनता की जो ज्वलंत समस्याएं हैं, उनको समझने में भाजपा विफल रही है. (इनपुट- एजेंसी)