Maharashtra Flood: पश्चिमी महाराष्ट्र के सोलापुर, सांगली और पुणे जिलों में वर्षा जनित घटनाओं में कम से कम 27 लोगों की मौत हो गयी है. अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को बताया कि तीनों जिलों के 20,000 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है. पूरी रात हुई बारिश के कारण राजधानी मुंबई में भी कई जगहों पर जलभराव की स्थिति है. पश्चिमी महाराष्ट्र के पुणे, सोलापुर, सांगली, सतारा और कोल्हापुर में पिछले दो दिन से मूसलाधार बारिश हो रही है.Also Read - तमिलनाडु में सामान्य से 68 फीसदी ज्यादा बारिश, 10 हजार लोग 220 राहत शिविरों में

पुणे के संभागीय आयुक्त कार्यालय के अधिकारी ने बताया, ‘‘सोलापुर, सांगली और पुणे में बुधवार से अभी तक वर्षा जनित घटनाओं में कुल 27 लोगों की मौत हुई है. सोलापुर में 14, सांगली में नौ और पुणे में से चार लोगों की मौत हुई है.’’ Also Read - Uttarakhand Flood: भयंकर तबाही, अब तक 34 मौतें, मृतकों के परिवार को 4 लाख की मदद मिलेगी

उन्होंने बताया कि सोलापुर जिले के पंढरपुर में दीवार गिरने से बुधवार को छह लोगों की मौत हो गई, अन्य लोगों की मौत वर्षा जनित अन्य घटनाओं में हुई है. अधिकारी ने बताया कि पुणे में चार लोगों की मौत दौंद तहसील के खानोटा में एक झरने में झूबने से हुई. एक व्यक्ति अभी भी लापता है. सांगली जिले में वर्षा जनित घटनाओं में नौ लोगों की मौत हुई है. Also Read - Weather Forecast: मध्य प्रदेश-झारखंड-बिहार-महाराष्ट्र, ओडिशा-बंगाल में बरसेंगे बादल, केरल-तमिलनाडु में भारी बारिश का अलर्ट

उन्होंने कहा, ‘‘प्रारंभिक सूचना के अनुसार सोलापुर, सांगली और पुणे से करीब 20हजार लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है.’’ सोलापुर के उपसंभागीय अधिकारी सचिन धोले ने बताया कि पंढरपुर से करीब 1,650 लोगों को सुरक्षित हटाया गया है. उन्होंने बताया कि तहसील में मदद के लिए एनडीआरएफ की अतिरिक्त टीमें बुलायी गयी हैं.

मौसम विभाग के अनुसार, पुणे शहर में बुधवार को 96 मिली बारिश हुई. कोल्हापुर में 56 मिली वर्षा हुई है. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य प्रशासन, सेना, नौसेना और वायुसेना से हाई अलर्ट पर रहने को कहा है.