मुम्बई: महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने सेामवार को शपथ ग्रहण समारोह के दौरान मंच पर दो मंत्रियों को पद की शपथ ग्रहण करने के लिखित विवरण से कुछ अलग पढ़ने और कुछ पंक्तियां बिना सोचे-समझे बोलने के लिए फटकार लगाई. कांग्रेस के विधायक के. सी. पडवी जब राज्य सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार के दौरान कैबिनेट मंत्री की शपथ ले रहे थे तो लिखित शपथ विवरण पढ़ने के बाद कुछ पंक्तियां मतदाताओं के आभार में बोल गए. कोश्यारी ने कड़े लहजे में तुरंत पडवी को रोका और उनसे कहा, ‘‘जो लिखा हुआ है उसे ही पढ़ें.’’

उत्तर महाराष्ट्र के अक्कलकुवा का प्रतिनिधित्व करने वाले सात बार के विधायक को राज्यपाल ने निर्देश दिया, ‘‘ऐसा नहीं चलेगा. फिर से शपथ लीजिए.’’ मंच से जाने के दौरान पडवी ने राज्यपाल से माफी मांगी, जिन्होंने बदले में मुस्कुरा दिया. इससे पहले कोश्यारी ने तब हस्तक्षेप किया जब कांग्रेस विधायक वर्षा गायकवाड़ ने पद और गोपनीयता की शपथ लेने के दौरान दलितों के मसीहा डॉ. बी आर आंबेडकर के नाम का जिक्र किया.

राज्यपाल ने गायकवाड़ को बीच में ही रोक दिया और शपथ लेते समय लिखित सामग्री तक ही सीमित रहने के लिए कहा. गायकवाड़ धारावी से चार बार की विधायक हैं. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सोमवार को 26 कैबिनेट मंत्रियों और दस राज्य मंत्रियों को मंत्रिपरिषद में शामिल किया.

(इनपुट भाषा)