Maharashtra politics: एक तरफ जहां देश में कोरोना वायरस ने उथल-पुथल मचा रखी है तो वहीं महाराष्ट्र की सियासत में भी भूचाल मचा हुआ है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी के बयान के बाद कयास लगाए जा रहे थे कि महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) और NCP प्रमुख शरद पवार (NCP Cheif Sharad Pawar) के बीच सबकुछ ठीक नहीं है. उसके दूसरे ही दिन मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बैठक बुलाई थी और NCP अध्यक्ष शरद पवार से मुलाकात भी की थी. अब एक बार फिर शनिवार रात महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और शरद पवार ने बैठक की. Also Read - महाराष्ट्र में 30 जून के बाद भी जारी रहेगा लॉकडाउन, मुख्यमंत्री की निजी अस्पतालों से सेवाएं शुरू करने की अपील

यह मुलाकात केंद्र द्वारा निरूद्ध क्षेत्रों में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाने की घोषणा करने के कुछ घंटों बाद हुई. दोनों नेताओं के बीच हाल के हफ्तों में हुई यह चौथी बैठक है, जो मुख्यमंत्री के आधिकारिक निवास ‘वर्षा’ में हुई. लॉकडाउन का मौजूदा चरण रविवार को समाप्त हो रहा है. पवार चरणबद्ध तरीके से आर्थिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने और राज्य के भीतर सड़क परिवहन को फिर से शुरू करने पर जोर देते रहे हैं. Also Read - राहुल के आरोपों पर शरद पवार का पलटवार! 1962 के युद्ध के बाद भारत के 45,000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र पर चीन ने किया कब्जा

65,000 से अधिक कोरोना वायरस मामलों के साथ महाराष्ट्र देश में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है और मुंबई सबसे ज्यादा प्रभावित शहर है. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शनिवार को ताजा दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा कि निषिद्ध क्षेत्रों में देशव्यापी लॉकडाउन 30 जून तक जारी रहेगा. गृह मंत्रालय ने साथ ही कहा कि आठ जून से धार्मिक स्थलों, होटलों और शॉपिंग मॉल को चरणबद्ध तरीके से खोलने की अनुमति होगी. Also Read - Ganesh Chaturthi festival in Maharashtra: इस बार महाराष्ट्र में साधारण तरीके से होगा गणेश चतुर्थी का कार्यक्रम, चार फुट से ज्यादा बड़ी गणेश प्रतिमा पर रोक