नई दिल्‍ली: मुंबई में लॉकडाउन के दौरान आज मंगलवार को प्रवासी मजदूरों के प्रदर्शन की घटना के बाद महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि आज पीएम नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित किया और घोषणा की कि लॉकडॉउन 3 मई तक बढ़ा रहेगा. मैंने प्रधानमंत्री को इसके लिए बधाई दी, जैसे कि मैंने पहले ऐसी सलाह दी थी. Also Read - जल्द आने वाला है कोरोना का टीका! केंद्र ने राज्यों से कहा- सुचारु टीकाकरण के लिए समिति गठित करो

वहीं, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में फंसे प्रवासी मजदूरों को एक बार फिर आश्वस्त किया कि लॉकडाउन कोई ”लॉक-अप” नहीं है. अपने गृह क्षेत्र जाने की उम्मीद में बांद्रा में इकट्ठा हुए दिहाड़ी मजदूरों से उन्होंने वापस लौटकर कोरोना वायरस की चुनौती का सामना करने की अपील की. Also Read - योगी आदित्यनाथ का वादा, 'कोरोना खत्म होने पर हर गांव के व्यक्ति को कराएंगे अयोध्या में कारसेवा'

वहीं, महाराष्‍ट्र के गृृहमंत्री  ने प्रवासी श्रमिकों के विरोध प्रदर्शन के लिए पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा लॉकडॉउन को बढ़ाने जाने के लिए जिम्‍मेदार ठहराया है. बता दें कि आज सैकड़ों मजदूरों ने बांद्रा में सड़क पर हंगामा शुरू कर दिया. इनकी की मांग की थी कि उन्हें उनके घरों को भेजने के लिए परिवहन की व्यवस्था की जाए. इसके बाद पहुंची पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के लिए बल प्रयोग किया. Also Read - दिल्ली में बहाल होगी इंटरस्टेट बस सेवा, डीटीसी और क्लस्टर बसों में 20 सवारियों की लिमिट खत्म

मुख्‍यमंत्री ठाकरे ने कोरोना वायरस के खिलाफ राज्‍य सरकार के उठाए गए कदमों के बारे में स्‍पष्‍ट करते हुए कहा कि महाराष्‍ट्र संभवता: सबसे ज्‍यादा टेस्‍ट कर रहा है. मुंबई में ही 22000 सेम्‍पल किए गए और 2334 मामले सुबह तक दर्ज हुए हैं. 230 लोग लगभग 10 फीसदी लोग ठीक हो गए हैं. ठाकरे ने कहा, महाराष्ट्र में 2,334 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि, उनमें से 230 इलाज के बाद संक्रमण मुक्त हुए, जबकि 32 लोगों की हालत गंभीर, लेकिन स्थिर बनी हुई है.

मुख्‍यमंत्री ठाकरे ने कहा, मुंबई और पुणे हॉटस्पॉट हैं और हम इन स्थानों पर अपने परीक्षण केंद्र बढ़ा रहे हैं. परीक्षण और टेस्‍ट के लिए संक्रमित ज़ोन मुख्य फोकस पर हैं. हम सभी क्षेत्रों से आपूर्ति संबंधी समस्याओं को दूर करने की कोशिश कर रहे हैं.

सीएम ठाकरे कहा, “किसानों को लॉकडाउन में नहीं रोकेंगे. फसल के काम नहीं रुकेंगे. फर्टिलाइजर और कृषि उत्पाद पर रोक नहीं है. जरूरी चीजों की आपूर्ति जारी रहेगी. कैबिनेट की उपसमिति फैसला करेगी कि 20 अप्रैल के बाद से कौन से उद्योग व्यवसाय शुरू करेंगे. महाराष्ट्र के 10 जिलो में कोरोना का कोई रोगी नहीं है.”

उद्धव ठाकरे ने इकट्ठा हुए दिहाड़ी मजदूरों से की ये अपील
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में फंसे प्रवासी मजदूरों को एक बार फिर आश्वस्त किया कि लॉकडाउन कोई ”लॉक-अप” नहीं है. अपने गृह क्षेत्र जाने की उम्मीद में बांद्रा में इकट्ठा हुए दिहाड़ी मजदूरों से उन्होंने वापस लौटकर कोरोना वायरस की चुनौती का सामना करने की अपील की.

मुख्यमंत्री ने कुछ देर तक हिंदी में भी संबोधित किया
देशव्यापी लॉकडाउन तीन मई तक बढ़ाए जाने के बावजूद अपने-अपने गृह नगर जाने की आस में यहां बांद्रा रेलवे स्टेशन के पास सैकड़ों प्रवासी कामगारों के इकट्ठा होने के बाद उन्होंने वेबकास्ट के जरिए संबोधित किया. प्रवासियों से अपील करते हुए मुख्यमंत्री ने कुछ देर तक हिंदी में भी संबोधित किया. ठाकरे ने यह भी कहा कि उनकी सरकार इस पर काम कर रही है कि लॉकडाउन कैसे खत्म किया जाए और औद्योगिक गतिविधियां बहाल हो.

गृहमंत्री ने कहा- यह उस तरीके का परिणाम है, जिसमें लॉकडाउन को बढ़ाया गया
महाराष्‍ट्र के गृहमंत्री अन‍िल देशमुख ने कहा, यह उस तरीके का परिणाम है, जिसमें लॉकडाउन को बढ़ाया गया है. मुंबई में फंस गए लोग उम्मीद कर रहे थे कि तालाबंदी खत्म हो जाएगी और उन्हें घर जाने दिया जाएगा, लेकिन वे आज पीएम के संबोधन से निराश थे और बांद्रा की सड़कों पर उनका गुस्सा फूट पड़ा.

आदित्‍य ठाकरे ने केंद्र को दोषी ठहराया
महाराष्ट्र के पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे ने बांद्रा रेलवे स्टेशन के पास सैकड़ों प्रवासी मजदूरों के विरोध प्रदर्शन के लिए केंद्र को दोषी ठहराया और प्रवासियों को उनके मूल स्थानों पर वापस भेजना सुगम बनाने के लिए एक कार्ययोजना की मांग की.  ठाकरे ने कई ट्वीट करके कहा, ‘‘बांद्रा में वर्तमान स्थिति जिसमें लोगों को अब तितर बितर कर दिया गया है और सूरत में हंगामा केंद्र सरकार द्वारा प्रवासी श्रमिकों को वापस उनके घर भेजने के इंतजाम को लेकर कोई निर्णय नहीं कर पाने का परिणाम है. वे भोजन या आश्रय नहीं चाहते, वे घर जाना चाहते हैं.

इकोनॉमी को रिवाइवल करने का चैलेंज होगा
कोविड 19 का प्रकोप खत्‍म होने के बाद हमारे सामने समानरूप राज्‍य में इकोनॉमी को रिवाइवल के लिए चैलेंज होंगे. इसलिए हमनें दो कमेटियों का गठन किया था, जो इसके रिवाइवल के लिए प्‍लान तैयार करेंगे.

महाराष्ट्र में संक्रमितों आंकड़ा 2,684
बता दें कि कोरोना संकट के चलते महाराष्ट्र में मंगलवार को कोविड-19 से 18 मौतें हुई हैं, मृतक संख्या बढ़कर 178 हो गई है. महाराष्ट्र में मंगलवार को कोरोना वायरस से 350 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई. संक्रमितों की तादाद 2,684 पहुंच गई है.

मुंबई में संक्रमण से 11 और लोगों की मौत, 204 नए मामले
-मुंबई में मंगलवार को कोरोना वायरस संक्रमण से 11 और लोगों की मौत हुई है, जबकि संक्रमण के 204 नए मामले आए.

– बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कॉर्पोरेशन ने बताया कि मुंबई में कोरोना वायरस संक्रमण से अभी तक 111 लोगों की मौत, जबकि 1,753 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है.

– अभी तक 164 लोग इलाज के बाद संक्रमण मुक्त होकर घर लौट चुके हैं.