मुंंबई: अपने ट्वीट में दुनिया भर से महात्मा गांधी की प्रतिमाएं और भारतीय नोटों से उनके चित्र हटाने की बात करने वाली और 30 जनवरी 1948 के लिए महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को धन्यवाद देने वाली महाराष्ट्र की आईएएस अधिकारी निधि चौधरी का स्थानांतरण कर दिया गया है. व्यंगपूर्ण ट्वीट पर महाराष्ट्र सरकार ने नौकरशाह को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया है. यह जानकारी सोमवार को यहां एक अधिकारी ने दी. Also Read - Lockdown in Maharashtra Update: महाराष्ट्र के इस जिले में छह दिनों के लिए लगा लॉकडाउन, सख्त पाबंदियां लगाई गईं

Also Read - Video: हवा में उड़ते ही निकला एयर एंबुलेंस का पहिया, फिर ऐसे हुई लैंडिंग; सभी सुरक्षित

महिला IAS अफसर का ट्वीट, दुनिया से हटें गांधी की प्रतिमाएं, नोटों से भी हटाएं तस्‍वीर Also Read - Mahatma Gandhi's Personal Secretary Kalyanam Dies: महात्मा गांधी के निजी सचिव कल्याणम का 99 साल की उम्र में निधन

बता दें कि मुंबई के उप निगमायुक्त चौधरी ने दुनिया भर से महात्मा गांधी की प्रतिमाएं और भारतीय नोटों से उनके चित्र हटाने का आह्वान किया था और 30 जनवरी 1948 के लिए महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को धन्यवाद दिया था. इसी दिन राष्ट्रपिता की हत्या हुई थी. विवाद भड़कने के बाद अधिकारी ने स्पष्ट किया कि ट्वीट ”व्यंगात्मक” था और इसे ”गलत तरीके से पेश” किया गया. चौधरी ने बाद में ट्वीट हटा लिए.

मंबई नगर निगम से चौधरी का स्थानांतरण मंत्रालय में जल आपूर्ति विभाग में हुआ है. अधिकारी ने बताया कि व्यंगपूर्ण ट्वीट पर महाराष्ट्र सरकार ने नौकरशाह को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया है.

आईएएस चौधरी के खिलाफ कार्रवाई एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार की मांग पर हुई, जिन्होंने रविवार को गांधी के खिलाफ विवादित ट्वीट के संबंध में आईएएस अधिकारी के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने की मांग की.

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को लिखे पत्र में पवार ने कहा, अगर सरकार ने कार्रवाई नहीं की तो माना जाएगा कि इसकी नीतियां और मंशा निम्नतम स्तर पर पहुंच चुकी है. एनसीपी प्रमुख पवार ने कहा था, ”महाराष्ट्र जैसे प्रगतिशील राज्य में एक सरकारी अधिकारी महात्मा गांधी के खिलाफ इस तरह की टिप्पणी करती है और राज्य सरकार इस तरफ से आंखें मूंदी हुई हैं, जो एक गंभीर मामला है.”