जलगांव: महाराष्ट्र में एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है. यहां के एक सरकारी अस्पताल से आठ दिनों से लापता भुसावल की एक 82 वर्षीय महिला बुधवार को उसी अस्पताल में शौचालय के अंदर मृत पाई गईं. पुलिस अधिकारियों और उसके रिश्तेदारों ने यह जानकारी दी. जिलापेठ पुलिस स्टेशन में वरिष्ठ निरीक्षक अकबर पटेल के अनुसार, जलगांव सिविल अस्पताल (जेसीएच) के अधिकारियों और परिवार ने पुलिस को महिला के दो जून से लापता होने की सूचना दी थी. Also Read - कोविड-19 की दवा विकसित करने के लिए 'ड्रग डिस्कवरी हैकाथन' शुरू, देश में पहली बार हो रही ऐसी पहल

वरिष्ठ निरीक्षक अकबर पटेल ने बताया, “इसके बाद, हमने भुसावल में पूरी जांच की, रिश्तेदारों की उपस्थिति में सभी रोगियों के रजिस्टर, सीसीटीवी फूटेज खंगाले गए और फिर 6 जून को शिकायत दर्ज की गई.” बुजुर्ग महिला 27 मई को कोरोना पॉजिटिवि पाई गई थीं और जेसीएच में शिफ्ट होने से पहले उसे दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया था, और जांच के लिए पुलिस टीमों को वहां भेजा गया था. Also Read - 'यदि भारत खेलने के लिए तैयार हो जाए तो हम 23 की जगह 13 मैचों के आयोजन पर विचार कर सकते हैं'

जेसीएच अधिकारियों ने पुष्टि की है कि महिला को 2 जून तक वार्ड में देखा गया था, जिसके बाद उसका पता नहीं चला था. पटेल ने कहा, “आखिरकार, आज अस्पताल के शौचालयों में से एक से काफी दुगर्ंध आ रही थी और हमें वहां महिला का शव मिला. हमने तदनुसार परिवार को सूचित कर दिया.” Also Read - Coronavirus In India Update: 24 घंटे में 434 लोगों की हुई मौत, संक्रमितों की संख्या 5 लाख के पार

एक वीडियो संदेश में, महिला के दुखी पोते ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से अपील की है कि वह इस घटना की जांच का आदेश दें और दोषी पाए जाने वालों को दंडित करें. पिछले तीन दिनों में लापता कोरोना संक्रमित मरीज के मृत पाए जाने का यह दूसरा दर्ज मामला है, जो राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों को परेशान कर रहा है.