Kiran Gosavi Arrested in Pune: पुणे पुलिस ने आर्यन खान ड्रग्स (Aryan Khan Drugs Case) मामले में एनसीबी (NCB) के गवाह किरण गोसावी को गिरफ्तार कर लिया है. किरण गोसावी को साल 2018 के एक धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार किया गया है. उनके खिलाफ साल 2019 में एक चार्ज-शीट दाखिल की गई थी. पुणे शहर से पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता ने कहा, अगर हमें गोसावी के खिलाफ और शिकायतें मिलती हैं तो हम उनके खिलाफ नए मामले दर्ज करेंगे.Also Read - मध्य प्रदेश के दो बड़े शहरों भोपाल और इंदौर में हम पुलिस कमिश्‍नर प्रणाली लागू कर रहे हैं: सीएम

इससे पहले गुरुवार सुबह पुलिस ने गोसावी को हिरासत में लिया था. पुणे पुलिस के अनुसार किरण गोसावी लंबे समय से गायब थे. पुलिस हिरासत में लिए जाने से पहले गोसावी ने कहा, ‘उनका बॉडी गार्ड रहा प्रभाकर सेल झूठ बोल रहा है. मेरा बस इतना ही अनुरोध है कि उसकी सीडीआर रिपोर्ट (CDR Report) का खुलासा किया जाए. मेरी सीडीआर रिपोर्ट और चैट को भी रिलीज किया जा सकता है. प्रभाकर सेल और उसके भाई की सीडीआर रिपोर्ट और चैट भी रिलीज की जानी चाहिए, इससे सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा.’ Also Read - Aryan Khan केस में NCB के गवाह किरण गोसावी को कोर्ट ने 5 नवंबर तक पुलिस हिरासत में भेजा, धोखाधड़ी का है आरोप

किरण गोसावी ने कहा, कम से कम महाराष्ट्र के एक मंत्री या विपक्ष के किसी नेता को मेरा साथ देना चाहिए. कम से कम उन्हें मुंबई पुलिस से आग्रह करना चाहिए कि मैं प्रभाकर सेल की सीडीआर और चैट रिलीज करने की मांग कर रहा हूं. एक बार प्रभाकर की रिपोर्ट सामने आ गई तो सब कुछ साफ हो जाएगा. Also Read - Aryan Khan ड्रग मामले में लापता गवाह किरण गोसावी लखनऊ में करेगा सरेंडर, कहा- 'मुझे धमकाया जा रहा'

साल 2019 में पुणे पुलिस ने गोसावी को वांटेड घोषित किया था. वह तभी से गायब था और फिर आर्यन खान ड्रग्स केस (Aryan Khan Drugs Case) में एनसीबी के गवाह के रूप में सामने आया. हाल की में 14 अक्टूबर को पुलिस ने गोसावी के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया था.

मुंबई में दो अक्टूबर को एनसीबी की छापेमारी के बाद, मामले में गिरफ्तार किए गए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान के साथ गोसावी की तस्वीरें तथा वीडियो वायरल हुए थे. वह मामले में फरार थे. कहा जाता है कि गोसावी एक ‘प्राइवेट डिटेक्टिव’ हैं.

ड्रग्स मामले में प्रभाकर सेल ने आरोप लगाया है कि आर्यन को एनसीबी कार्यालय लाए जाने के बाद उन्होंने गोसावी को फोन पर सैम डिसूजा नामक व्यक्ति से 25 करोड़ रुपये की मांग करने और मामला 18 करोड़ रुपये में तय करने के बारे में बात करते हुए सुना था, क्योंकि उन्हें ‘आठ करोड़ रुपये समीर वानखेडे (एनसीबी के जोनल डायरेक्टर) को देने थे.’

गौरतलब है कि गोसावी ने सोमवार को ही सेल के सभी आरोपों को खारिज कर दिया था और कहा था कि वह लखनऊ पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण करेंगे. कहा जाता है कि मुंबई में छापेमारी के दौरान गोसावी मौजूद थे और बाद में एनसीबी कार्यालय में आर्यन खान के साथ भी देखे गए थे. उनकी आर्यन खान के साथ ली गई ‘सेल्फी’ सोशल मीडिया पर वायरल भी हुई थी.

गोसावी इस मामले में एनसीबी के ‘स्वतंत्र गवाह’ हैं. एजेंसी अभी तक मामले में करीब 20 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है. पुणे पुलिस ने पूर्व में चिन्मय देशमुख द्वारा दायर किए गए धोखाधड़ी के मामले में गोसावी की सहायक शेरबानो कुरैशी को गिरफ्तार किया था. देशमुख ने आरोप लगाया था कि गोसावी ने उसे मलेशिया में नौकरी दिलाने के नाम पर उसके साथ 3.09 लाख रुपये की धोखाधड़ी की. यह पैसे कुरैशी के खाते में डाले गए थे. यह मामला फरासखाना थाने में दर्ज किया गया था. (इनपुट – पीटीआई)