मुंबई| मुंबई के सबसे मशहूर गणेश पंडाल लालबागचा राजा में इस साल श्रद्धालुओं ने बड़ी मात्रा में पिछले साल चलन से बाहर किये गए नोट चढ़ाए. ख़बरों के अनुसार इन नोटों का मूल्य 1 लाख रुपए हैं. बता दें कि गणेशोत्सव के दौरान लालबागचा राजा के दर्शन के लिए भक्तों का तांता लगता है. भक्त बाप्पा के दरबार में आते हैं और लाखों रुपए का चढ़ावा भी चढ़ाते है.Also Read - महाराष्ट्र के गणपति पूजा पर मंडराया कोरोना का खतरा! लालबागचा राजा के होंगे ऑनलाइन दर्शन व पूजा

इस साल भी गणेश महोत्सव के दौरान भी लालबागचा राजा पंडाल में श्रद्धालुओं का हुजूम देखने को मिला. श्रद्धालुओं ने लगभग छह करोड़ रूपए का दान भी दिया मगर इस राशि में चलन से बाहर कर दिए गए एक हजार रुपए के 105 नोट मिले हैं. Also Read - Ganesh Chaturthi 2020: कोरोना काल में बिग बी ने ऐसे दी गणेश चतुर्थी की बधाई, लालबाग के राजा के क़दमों में...

राज्य के धर्मार्थ आयुक्त कार्यालय के एक अधिकारी ने बताया, “ एक हजार रूपये के इन 105 नोटों में से एक नोट फटा हुआ था. इसके अलावा चलन से बाहर कर दिए गए 500 रुपये के भी 50 नोट थे.” अधिकारी ने बताया, “अब तक कुल 5,93,14,800 रूपये दान में प्राप्त हुए हैं.” उन्होंने कहा, “दान पेटी में प्राप्त विदेशी मुद्रा और भगवान को चढ़ाई गई नए नोटों की मालाओं की राशि की गणना करना अभी बाकी है.” Also Read - Ganpati Visarjan 2017 Live News Updates from Mumbai in Hindi | गणेश विसर्जन: सुरक्षा हुई चाक चौबंद, भक्त दे रहे है अपने लाडले बाप्पा को विदाई

इस साल दान की राशि पिछले साल के आठ करोड़ रुपये के मुकाबले कम है. इस वर्ष सोना और चांदी भी दान किया गया है. अधिकारी दान राशि कम होने की वजह 29 अगस्त को हुई भारी बारिश, बाढ़ और परिवहन सेवाओं का बाधित होना बताते हैं.

Inputs from Bhasha