Maharashtra Local body elections महाराष्ट्र सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री हसन मुशरिफ ने सोमवार को कहा कि 70 फीसदी लोगों का कोविड-19 टीकाकरण होने से पहले राज्य में स्थानीय निकाय चुनाव नहीं कराए जाएंगे. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, महाराष्ट्र में रविवार तक 2,76,99,419 लोगों को टीके की खुराक दी जा चुकी थी.Also Read - बाढ़ राहत के लिए दान देते समय फर्जी संगठनों से रहें सावधान, महाराष्ट्र पुलिस ने जारी की चेतावनी

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता मुशरिफ कोल्हापुर में संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे. इस दौरान उनसे महाराष्ट्र के मंत्री एवं कांग्रेस नेता विजय वडेट्टीवार के बयान को लेकर सवाल किया गया, जिसमें उन्होंने कहा था कि राज्य में जब तक ओबीसी आरक्षण का मुद्दा हल नहीं होगा, तब तक वह स्थानीय निकाय चुनाव कराने की अनुमति नहीं देंगे. मुशरिफ ने कहा, ‘ कोरोना महामारी के चलते, जब तक 70 फीसदी टीकाकरण नहीं हो जाएगा, तब तक कोई चुनाव नहीं होंगे. इसलिए, तब तक आरक्षण का मुद्दा भी हल हो जाएगा.’ Also Read - Maharashtra Flood: बाढ़ प्रभावित कोल्हापुर जिले में 'एक साथ' पहुंचे मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस

शिवसेना के विधायक प्रताप सरनाइक द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर रांकपा और कांग्रेस पर शिवसेना को कमजोर करने का आरोप लगाने के सवाल पर मुशरिफ ने इसे भाजपा द्वारा राज्य की गठबंधन सरकार को अस्थिर करने की कोशिश करार दिया. Also Read - Maharashtra: पूर्व बैंक मैनेजर ने ऑफिस में महिला अफसर का मर्डर किया, सामने आई ये वजह

उन्होंने कहा, ‘ रांकपा और कांग्रेस राज्य में कहीं भी शिवसेना को कमजोर करने का प्रयास नहीं कर रहे. दोनों ही दल महा विकास अघाड़ी सरकार और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के नेतृत्व को मजबूत करने के लिए कार्य कर रहे हैं.’

रांकापा नेता ने दावा किया, ‘ जब से सरनाइक ने अभिनेत्री कंगना रनौत और पत्रकार अर्नब गोस्वामी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का नोटिस दिया है, तब से वह भाजपा के निशाने पर हैं.’

(इनपुट भाषा)