मुंबई. बीएमसी के वंदे मातरम प्रस्ताव पास करने से उठा विवाद अभी तक थमा नहीं था. तब तक एक और नया विवाद खड़ा हो गया है. महाराष्ट्र सरकार और बीएमसी मिलकर एक ऐसा ऐप लाने वाली हैं जिसमें जानवरों की जनगणना और जानवरों से जुड़ी जानकारियां इकट्ठा की जाएंगी.Also Read - बकरीद को लेकर महाराष्ट्र सरकार ने जारी किए दिशानिर्देश: घर में अता करें नमाज, ऑनलाइन खरीदें बकरा

खबरों के मुताबिक इस मोबाइल ऐप से बकरे की कुर्बानी देने वाले शख्स की पूरी जनाकारी को रजिस्टर्ड किया जाएगा. इसमें यह भी होगा की बकरे की कुर्बानी कौन दे रहा है और उसके पास कौन सा बकरा है. लेकिन इस मोबाइल ऐप के विरोध में अब विरोधी दल मैदान में उतरने लगे हैं. बीएमसी और सरकार के इस फैसले पर एमआईएम ने नाराजगी जाहिर की है. उनका कहना है कि इस फैसले से सरकार मुस्लिम त्योहारों पर अंकुश लगाने की कोशिश कर रही है. Also Read - Eid al-Adha 2018: सेलिब्रिटीज ने ऐसे किया 'ईद मुबारक', हिना खान, मोनालीसा से लेकर 'इलायची' का जुदा अंदाज, देखें 15 PHOTOS

वहीं इस पूरे मामले पर सरकार ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि पहले बकरे की खरीदी और उससे जुड़ी अन्य जो जानकारियां होती थी. उन्हें पेपर पर लिखा जाता था. लेकिन अब सरकार ने यही काम मोबाइल ऐप के माध्यम से शुरू करने की पहल कर रही है. इसका धर्म से कोई लेनादेना ही नहीं है. फिलहाल माना जा रहा है कि इस मोबाइल ऐप इस महीने के अंत से पहले लॉन्च किया जा सकता है. Also Read - Bakra Eid 2018: शाहरुख को पसंद है इस नस्ल का बकरा, कुर्बानी के लिए फ्लाइट से मंगवाया गया!