मुंबई | महाराष्ट्र में किसान हड़ताल के छठे दिन बाद बड़ी संख्या में किसानों ने इस बंद के आंदोलन का समर्थन कर रहे है.  इसके साथ ही नासिक जिले में सभी 15 कृषि उत्पाद बाजार कमेटियां एपीएमसी किसानों की राज्यव्यापी हड़ताल के दौरान बंद रही. वहीं छठे दिन मुंबई में रहने वाले लोगों को दिक्कतों का सामना न करना पड़े इसलिए दूसरे राज्यों से सब्जियां मंगाई जा रही हैं.

वहीं सूबे के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सरकार का पक्ष रखते हुए किसानों को छठे दिन भरोसा दिलाया है कि 31 अक्टूबर तक जरूरतमंद किसानों का कर्ज माफ कर दिया जाएगा, जो तीस हजार करोड़ रुपए तक हो सकता है. उन्होंने कहा कि राज्य में यह सबसे बड़ी कर्ज माफी होगी. इसके लिए 4 महीनों का वक्त मांगा है. वहीं किसान सीएम देवेंद्र फडणवीस के इस आश्वासन के बाद भी नाखुश हैं और उन्होंने अपना आंदोलन जारी रखा है.

शिवसेना ने बीजेपी पर किया हमला

सूबे में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने अपने सहयोगी दल बीजेपी को किसानों के चल रहे आंदोलन से सीख लेने को कहते हुए चेतावनी दी है कि अगर किसानों की मांग पूरी नहीं की गई तो यह भाजपा के लिए तबाही का सबब बन सकता है. किसानों के कर्जमाफी को लेकर शिवसेना पहले भी बीजेपी पर हमला कर चुकी है. शिवसेना ने कहा वह किसानों के साथ अंत समय तक खड़ी रहेगी.

किसानों ने राज्य सरकार के सामने यह मांग रखी है

1- किसानों के सभी कर्ज माफ किया जाएं
2- 60 साल के उम्र वाले किसानों को पेंशन मिले
3- बिना ब्याज के खेती के लिए कर्ज मिलने की मांग की गई है.
4- स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें लागू की जाएं.
5- दूध की कीमत उन्हें 50 रुपये प्रति लीटर मिले.