मुंबई/ औरंगाबाद: महाराष्ट्र में मराठा संगठनों ने मंगलवार को बंद का आह्वान किया है. दरअसल, सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में समुदाय के लिए आरक्षण की मांग को लेकर सोमवार को एक युवक ने औरंगाबाद में नदी में कूद कर जान दे दी थी. आरक्षण की मांग करने वाले एक मराठा नेता ने कहा कि उन्होंने मंगलवार को पूरे राज्य में बंद का आह्वान किया है और जब तक मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस समुदाय से माफी नहीं मांग लेते यह विरोध जारी रहेगा. बता देंं कि  मराठा समाज को सरकारी जॉब्स और शिक्षा में जिले में जल समाधि विरोध प्रदर्शन का आयोजन कर रहे हैं. मराठा समाज को रिजर्वेशन की मांग को लेकर महाराष्ट्र में मंगलवार को औरंगाबाद के देवगांव रांगारी में तीन युवकों ने आत्महत्या करने की कोशिश की है. जयंत सोनवने और गुड्डू सोनवने ने नदी में कूदकर आत्महत्या करने की कोशिश की है और जगन्नाथ सोनवने ने जहर खाकर जान देने की कोशिश की है. Also Read - Maratha Reservation: सुप्रीम कोर्ट ने खत्म किया मराठा आरक्षण, कोर्ट ने कहा- यह समानता के खिलाफ

सांसद के वाहन पर पथराव, तीन युवकों ने की सुसाइड की कोशिश
औरंगाबाद के शिवसेना सांसद चंद्रकांत खैरे के वाहन पर स्थानीय लोगों ने पथराव कर दिया, आरक्षण की मांग में सुसाइड करने वाले युवक की अंत्येष्ठि से लौट रहे थे. मंगलवार को महाराष्ट्र में तीन युवकों ने आत्महत्या करने की कोशिश की है. औरंगाबाद के देवगांव रांगारी में जयंत सोनवने और गुड्डू सोनवने ने नदी में कूदकर आत्महत्या करने की कोशिश की है और जगन्नाथ सोनवने ने जहर खाकर जान देने का प्रयास किया है.

मराठा समुदाय से माफी मांगे मुख्यमंत्री 
आरक्षण की मांग करने वाले मराठा समूह के संयोजक रविन्द्र पाटिल ने बताया, ”जब तक मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस मराठा समुदाय से माफी नहीं मांग लेते हम अपना प्रर्दशन जारी रखेंगे. हम औरंगाबाद और राज्य के अन्य हिस्सों में आज बंद रखेंगे.” कुछ मराठा समूहों ने भविष्य में मुंबई में भी प्रदर्शन करने की योजना बनाई है.

गोदावरी नदी में कूद गया था युवक 
पुलिस ने बताया कि औरंगाबाद जिले के कायगांव निवासी 27 वर्षीय काकासाहब शिंदे एक पुल से गोदावरी नदी में कूद गया था. उसे नदी से निकालकर अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. यह घटना ऐसे समय में हुई है जब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने पंढरपुर के मंदिर की मंगलवार की अपनी यात्रा मराठा संगठनों की इस धमकी के बाद स्थगित कर दी कि वे कार्यक्रम में बाधा पहुंचाएंगे. शिंदे की मौत के बाद महाराष्ट्र के कई हिस्सों में नए सिरे से प्रदर्शन शुरू हो गया है और विपक्ष के नेताओं ने बीजेपी नीत राज्य सरकार पर ठीकरा फोड़ने की कोशिश की है.

(इनपुट- एजेंसी)