मुंबई: महाराष्ट्र में जाति आधारित क्षेत्रों के नाम बदले जाएंगे. यह घोषणा बुधवार को महाराष्ट्र सरकार ने की. मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी एक बयान में बताया गया कि कैबिनेट की बैठक के दौरान यह निर्णय किया गया. Also Read - मुंबई में ACP की पोस्‍ट पर रहते हुए महिला ASI से रेप करने के आरोप में Deputy SP पर केस दर्ज

इसने बताया कि महार-वाडा, मांग-वाडा, ढोर-बस्ती, ब्राह्मण-वाडा, माली-गली सामान्य नाम हैं, लेकिन महाराष्ट्र जैसे प्रगतिशील राज्य में इनकी जरूरत नहीं है.  इस तरह के नाम से सामान्य तौर पर पता चलता है कि क्षेत्र में किसी विशिष्ट समुदाय के सदस्य रहते हैं. Also Read - Maharashtra: रायगढ़ में प्‍लांट से जहरीली गैस के रिसाव से 7 लोग बीमार, अस्‍पताल में चल रहा इलाज

सीएमओ ने बयान जारी कर कहा कि इन क्षेत्रों का नाम बदलने का निर्णय सामाजिक सौहार्द और राष्ट्रीय एकता को बनाए रखने के लिए किया गया है.
इन क्षेत्रों को समता नगर, भीम नगर, ज्योति नगर, शाहू नगर, क्रांति नगर जैसे नाम दिए जाएंगे. Also Read - Serum Institute Fire Incident: सीरम इंस्टीट्यूट की बिल्डिंग में आग लगने से 5 लोगों की मौत, सीएम बोले- हादसे की होगी जांच

इससे पहले राज्य सरकार ने डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर दलित मित्र पुरस्कार का नाम बदलकर डॉ. बाबा साहेब अंबेडकर समाजभूषण पुरस्कार कर दिया था.