Maharashtra Coronavirus Pandemic updates: देश में कोरोना संकट से बुरी तरह प्रभावित महाराष्‍ट्र राज्‍य के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को मेडिकल फील्‍ड का अनुभव रखने वाले लोगों को अपील करते हुए कहा है कि महाराष्‍ट्र को आपकी जरूरत है और हमसे जुड़े. उद्धव ठाकरे ने कहा कि सेना के पूर्व स्वास्थ्य सेवा कर्मी, सेवानिवृत्त नर्सें और वार्ड ब्वॉय कोरोना वायरस के खिलाफ युद्ध में शामिल हों. मुख्‍यमंत्री ठाकरे ने  मेडिकल स्टाफ पर बढ़ते दबाव को कम करने के लिए इन सभी से मदद की अपील की है. Also Read - महाराष्ट्र में कोरोना वायरस से अब तक 3,000 की मौत, मामले 83,000 के करीब पहुंचे

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने मैं सभी सेवानिवृत्त सैन्यकर्मियों से अपील करना चाहता हूं, जिनके पास चिकित्सा क्षेत्र का अनुभव है, नर्सों, वार्डबॉय का जिन्होंने प्रशिक्षण पूरा कर लिया है, लेकिन किसी कारण से काम नहीं किया है, आप हमसे जुड़ने के लिए आगे आएं. महाराष्ट्र को आपकी जरूरत है. Also Read - गेंदबाजी कोच की सलाह- अपने राज्य के मैदानों पर अभ्यास शुरू करें भारतीय क्रिकेटर

सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि ये सभी लोग CovidYoddha@gmail.com के माध्यम से हमारे पास पहुंच सकते हैं. इस ईमेल आईडी का उपयोग किसी भी शिकायत को भेजने के लिए नहीं किया जाना चाहिए.

सीएम ने कहा- हमारे पास कोई दूसरा विकल्प नहीं
लॉकडाउन के कारण हुई असुविधा के लिए खेद है, लेकिन हमारे पास कोई दूसरा विकल्प नहीं है. अपने घरों से बाहर निकलते समय लोगों को मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए.

– महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की सेना के रिटायर्ड कर्मचारियों से अपील
– मेडिकल फील्ड का अनुभव रखने वाले कर्मचारी, वार्ड बाय, नर्सेंस से आगे आएंं
– मेडिकल की ट्रेनिंग ले  चुके ऐसे लोग जो किसी वजह से काम नहीं कर रहे हैं उनसे भी अपील
– मेडिकल स्टाफ पर बढ़ते दबाव को कम करने के लिए उद्धव ठाकरे ने इन सभी से मदद की अपील की
– उद्धव ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र को उनकी सेवा की जरूरत हैं और वो मदद के लिए आगे आएं

ठाकरे ने कोविड-19 के प्रभावशाली जागरूकता अभियान के लिए विशेषज्ञों की मदद ली
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कोरोना वायरस संकट के दौरान सुरक्षित रहने के लिए लोगों द्वारा उठाए जाने वाले कदमों के बारे में प्रभावशाली तरीके से सूचना प्रसारित करने के लिए क्रिएटिव कंटेंट डेवलेपर्स की मदद से एक जागरूकता अभियान शुरू किया है.

लोगों के लिए घरों में रहना, पृथक वास करना और सामाजिक दूरी बनाना महत्वपूर्ण
इस संक्रामक रोग के महामारी का रूप लेने के बाद से लोगों के लिए घरों में रहना, पृथक वास करना और सामाजिक दूरी बनाना महत्वपूर्ण हो गया है. मुख्यमंत्री कार्यालय ने एक बयान में बताया कि इस संदेश को प्रभावशाली तरीके से देने के लिए सर जे जे इंस्टीट्यूट ऑफ एप्लाइड आर्ट्स के पूर्व छात्र रहे मुख्यमंत्री ने जागरूकता अभियान चलाने के लिए संचार एवं डिजाइनिंग विशेषज्ञ भूपल रामनाथकर की मदद ली है. रामनाथकर ने भी इसी संस्थान से पढ़ाई की है.