नई दिल्‍ली: महाराष्‍ट्र में बीजेपी और एनसीपी अजित पवार के समर्थन से मुख्‍यमंत्री और डिप्‍टी मुख्‍यमंत्री के शपथ को लेकर सोमवार को जहां दिल्‍ली में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है. वहीं, मुंबई में शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के नेता महाराष्‍ट्र के राज्‍यपाल से मिलने के लिए राजभवन पहुंचे हैं.

महाराष्ट्र कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना नेताओं ने अपने गठबंधन का समर्थन करने विधायकों का एक पत्र मुंबई के राजभवन में अधिकारियों को सौंपा है. तीनों पार्टियों के नेताओं में शिवसेना के एकनाथ शिंदे, एनसीपी के जयंत आर पाटिल, कांग्रेस अशोक चव्‍हाण और बालासाहब थोरात शामिल थे.

जयंत पाटिल ने कहा, आज सुबह 10 बजे शिंदे जी, थोरात जी, चव्‍हाण जी, विनायक राउत जी, आजमी जी, केसीव पडवी ने और मैंने एनसीपी के तरफ एक राज्‍यपाल को 162 विधायकों के समर्थन का पत्र दिया है.

 

वहीं, मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ले चुके बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस और उपमुख्‍यमंत्री अजित पवार महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री यशवंतराव बलवंत राव चव्‍हाण की पुण्‍यतिथि पर विधान भवन में आयोजित श्रद्धांजलि कार्यक्रम में शामिल हुए. जबकि एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कराड में अलसुबह यशवंत राव बलवंतराव चव्‍हाण की पुण्‍यतिथि पर पुष्‍पांजलि अर्पित की है.

एनसीपी प्रमुख शरद पवार आज भी भतीजे अजित पवार को मनाने की कोशिश करते रहे. पवार के करीबी नेता छगन भुजबल सोमवार को सुबह उपमुख्‍यमंत्री की शपथ ले चुके अजित पवार से मुलाकात की है. इससे पहले पवार के कई नेता अजित पवार से मुलाकात कर चुके हैं.

वहीं, इससे पहले सुबह एनसीपी ने दावा किया था कि उसके पास 165 विधायकों का समर्थन है, 53 एनसीपी विधायक हमारे साथ हैं. अजित पवार ने गलती की है उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए. देवेंद्र फडणवीस को महसूस करना चाहिए कि उनके पास बहुमत नहीं है. उन्‍हें एहसास होना चाहिए कि उन्‍होंने गलती की है. यदि वह इस्तीफा नहीं देते हैं, तो हम निश्चित रूप से सरकार को सदन के पटल पर पराजित करेंगे.

दिल्‍ली में कांग्रेस ने महाराष्‍ट्र के सियासी घटनाक्रम के मुद्दे को संसद के दोनों सदनों में उठाने का फैसला किया है.