मुंबई: कांग्रेस के एक नेता ने बुधवार को कहा कि महाराष्ट्र में विपक्षी दल कांग्रेस और राकांपा में कुल 288 विधानसभा सीटों में से करीब 150 पर कोई विवाद नहीं है और इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए इन सीटों के बंटवारे पर भी जल्द ही फैसला लिया जाएगा. कांग्रेस ने कहा 2014 के चुनाव में दोनों पार्टियों के प्रदर्शन और मौजूदा स्थिति पर चर्चा करने के बाद अंतिम फैसला लिया जाएगा. कुछ सीटें बदल सकती है और कुछ अन्य सहयोगियों के लिए छोड़ी जा सकती है. कौन-सी पार्टी किस सीट पर चुनाव लड़ेगी यह फैसला करने में जीतने की क्षमता को प्राथमिकता दी जाएगी.

दोनों पार्टियों के वरिष्ठ नेताओं ने राज्य विधानसभा के आगामी चुनाव में सीटों के बंटवारे की विस्तृत रूपरेखा पर चर्चा करने के लिए मंगलवार शाम को यहां मुलाकात की. प्रदेश कांग्रेस के नेता ने कहा, करीब 150 सीटों पर दोनों दलों के बीच कोई विवाद नहीं है. चूंकि हमने 2014 का राज्य विधानसभा चुनाव अलग-अलग लड़ा था तो 2009 में सीटों का बंटवारा इस बार का आधार होगा.

बता दें कि 2014 में विधानसभा के लिए हुए चुनाव में भाजपा 122 सीटें जीतकर सत्ता में आई. उसके सहयोगी शिवसेना ने 62 सीटें जीती. कांग्रेस ने 42 और एनसीपी ने 41 सीटें जीती थीं.

कांग्रेस के नेता ने कहा, 2014 के चुनाव में दोनों पार्टियों के प्रदर्शन और मौजूदा स्थिति पर चर्चा करने के बाद अंतिम फैसला लिया जाएगा. कुछ सीटें बदल सकती है और कुछ अन्य सहयोगियों के लिए छोड़ी जा सकती है.

नेता ने कहा कि कौन-सी पार्टी किस सीट पर चुनाव लड़ेगी यह फैसला करने में जीतने की क्षमता को प्राथमिकता दी जाएगी. उन्होंने बताया कि वंचित बहुजन अघाड़ी (वीबीए) का नेतृत्व करने वाले दलित नेता प्रकाश अंबेडकर ने उन्हें चुनाव के लिए कांग्रेस और राकांपा नेताओं के साथ वार्ता के लिए आमंत्रित करने वाले पत्र का सकारात्मक जवाब दिया है. उन्होंने कहा, अगर अंबेडकर हमसे हाथ मिलाते हैं तो उन्हें भाजपा की बी-टीम बुलाने का सवाल ही नहीं है.