मुंबई: महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 21 नए मामले सामने आने के बाद राज्य में शुक्रवार तक कुल संक्रमित लोगों की संख्या 1,385 तक पहुंच गई है. राज्य स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि पुणे में नौ नए मामले सामने आए हैं. इसके बाद अकोला में चार, बुलढाना में दो और रत्नागिरि में एक मामला सामने आया है. बृहन्मुंबई नगर निगम ने कहा कि शहर की बड़ी झुग्गी बस्ती धारावी में पांच नए मामले सामने आए हैं. राज्य में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 1,385 तक पहुंच गई है. देश में सबसे ज्यादा संक्रमित मामले महाराष्ट् से हैं. Also Read - क्या अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम की कोरोना से हुई मौत?, सोशल मीडिया में अटकलों का बाजार गर्म

बता दें कि शहर की बड़ी झुग्गी बस्ती धारावी में पाए गए पांच नए मामलों में सबसे पहला कोरोना पाजिटिव शख्स गार्मेंट फैक्ट्री का मालिक था. दरअसल उसके खाली घर में निजामुद्दीन मरकज में भाग लेने वाले 10 लोग रहे थे और ये लोग केरल जाने से पहले 22 मार्च से 24 मार्च तक उसके घर में रहे थे. खबरों के मुताबिक केरल जाने से पहले चार लोग उससे मिलने भी आए थे. ऐसा माना जा रहा है कि शायद उन्हीं के संपर्क में आने से 56 साल के इस शख्स को कोरोना हुआ था और एक अप्रैल को उसकी मौत हो गई थी. Also Read - रेल मंत्री पीयूष गोयल की मां सीनियर बीजेपी नेता चंद्रकांता गोयल का मुंबई में निधन

इस गार्मेंट फैक्ट्री मालिक के संपर्क में कई लोग आए थे और इसी तरह कह सकते हैं कि कोरोना धारावी में फैला गया. धारावी में जो पांच नए केस सामने आए हैं उनमें एक बड़े हास्पिटल के सर्जन की बीवी भी है जिसने मकरज के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था. इस सर्जन ने मरकज के कार्यक्रम में हिस्सा लिया था. उसकी तीन डिस्पेंसरी हैं और वह जिस इमारत में रहता है उसको पूरी तरह सील कर दिया गया है. शक है कि वो इमारत में रहने वाले कई लोगों के संपर्क में आया हो सकता है. Also Read - राजस्थान में कोरोना वायरस से संक्रमितों का आंकड़ा 10128, अब तक मृतक संख्‍या 219

अधिकारियों के मुताबिक, कोरोना पॉजिटिव पांच में से दो महिलाएं हैं. उनमें से एक महिला की उम्र 29 वर्ष है, जो वैभव नगर के पहले से सही संक्रमित एक डॉक्टर की पत्नी है, जबकि दूसरी महिला की उम्र 31 वर्ष है, जो कल्याणवाड़ी इलाके की रहने वाली है. बीएमसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘पुलिस की सूची में शामिल उन दो लोगों को भी संक्रमित पाया गया हैं, जो मरकज (दिल्ली के निज़ामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात का मुख्यालय) से लौटे थे.’’

उन्होंने कहा कि उनमें से एक डॉ बालिगा नगर का निवासी है, जबकि दूसरा पीएमजीपी कॉलोनी का है. उन्होंने कहा, ‘‘दोनों को पहले से ही राजीव गांधी खेल परिसर स्थित पृथकवास में रखा गया था और अब उन्हें अस्पताल ले जाया गया है.’’