Maharashtra Floods: महाराष्ट्र में पिछले कई दिनों से लगातार हो रही भारी बारिश से आई बाढ़ और उससे हुए भू-स्खलन की वजह से तबाही मची हुई है और गांव के गांव तबाह हो गए हैं. गांवों के लिए ये बारिश और बाढ़ तबाही बनकर टूट रही है और कई गांवों में खौफनाक मंजर दिख रहा है. बता दें कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे के दौरान भारी बारिश, भूस्खलन और बाढ़ से अबतक 112 लोगों की मौत हो गई  है जबकि 99 लोग लापता हैं. एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और सेना के जवान लगातार राहत और बचाव कार्य में लगे हुए हैं.Also Read - Assam Boat Accident Update: ब्रह्मपुत्र नदी में नाव पलटने के बाद अभी भी 70 लोग लापता, 50 को बचाया गया

गांव के गांव हो गए हैं तबाह 
महाराष्ट्र के गांवों में बारिश और बाढ़ ने सबसे ज्यादा कहर बरपाया है. कोंकण के रायगढ़ जिले में तीन स्थानों पर भूस्खलन की घटनाएं हुईं हैं जिससे कई घर गिर गए हैं. सिर्फ महाड के तलिये गांव में हुए भूस्खलन से अब तक 52 शव मलबे से निकाले जा चुके हैं और 53 लोग लापता बताए जा रहे हैं. घटना में  33 लोग गंभीर रूप से घायल हैं जिनका इलाज चल रहा है. Also Read - Weather Update Today: दिल्ली-यूपी में जोरदार बारिश, महाराष्ट्र-राजस्थान में मानसून का कहर, जानिए मौसम का हाल

देखें बाढ़ का खौफनाक वीडियो…. Also Read - Weather Forecast: दिल्ली में अभी बारिश के आसार नहीं, अगले पांच दिनों में इन राज्यों में जमकर बरसेंगे बादल, जानिए मौसम का हाल...

इन गांवों में बारिश और बाढ़ ने मचाया है कहर
राज्य आपदा नियंत्रण कक्ष के अनुसार, रायगढ़, रत्नागिरी, सांगली, सतारा, कोल्हापुर, सिंधुदुर्ग और पुणे में पिछले 24 घंटे के भीतर अब तक 112 शव मलबे से निकाले गए जबकि 53 लोग गंभीर रूप से घायल हैं.जानकारी के मुताबिक तलिये गांव के अलावा रायगढ़ जिले के पोलादपुर तालुका में सुतारवाड़ी में भूस्खलन से 5 की मौत और एक लापता है जबकि 15 लोग घायल हैं.

वहीं, केवलाले गांव में भी 5 लोगों की मौत हुई है और 6 लोग गंभीर रूप से जख्मी हुए हैं. वशिष्ठी नदी पर पुल बह जाने के कारण चिपलून की ओर जाने वाला मार्ग पूरी तरह अवरुद्ध हो गया है और मुंबई-गोवा महामार्ग पर वाहनों की लंबी कतार लग गई हैं.

अबतक 1,35,313 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया
पश्चिमी महाराष्ट्र के पुणे मंडल में आज भी भारी बारिश हो रही है और नदियां उफान पर हैं. बाढ़ और बारिश से तबाही के बीच अब तक 1,35,313 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है, इनमें 40,882 लोग कोल्हापुर जिले से हैं. सांगली में 78000, सतारा में 5656, ठाणे में 6,930 और रायगढ़ जिले में 1000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर लाया गया है.

सतारा में 3024 पालतू पशुओं की मौत
बारिश के दौरान भूस्खलन और बाढ़ से 3,221 पालतू पशुओं की भी मौत हुई है. सबसे ज्यादा 3024 पशुओं की मौत सतारा जिले में हुई है जबकि रत्नागिरी में 115, रायगढ़ में 33, कोल्हापुर में 27, सांगली में 13, पुणे में 6 और ठाणे में 3 पशुओं की जान गई हैं.

सीएम ठाकरे ने किया बाढ़ प्रभावित जिलों का निरीक्षण 
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शनिवार को रायगढ़ के तलिये गांव का दौरा किया और उन्होंने ग्रामीणों को सरकार की ओर से हर प्रकार की मदद उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया. उन्होंने कहा कि गांव के बचे लोगों का पुनर्वास किया जाएगा, सीएम ने कहा कि आपने एक बड़ी त्रासदी का सामना किया है, इसलिए अभी आपको बस अपना ख्याल रखने की जरूरत है, बाकी सरकार पर छोड़ दो.