Maharashtra government will invite global tender for Covid19 vaccine महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने शनिवार को कहा कि राज्य सरकार कोविड-19 टीके और रेमडेसिविर इंजेक्शनों के संबंध में वैश्विक निविदा आमंत्रित करेगी. पवार राज्य के वित्त मंत्री भी हैं. उन्होंने पुणे में कोविड-19 हालात की समीक्षा को लेकर वरिष्ठ अधिकारियों के साथ हुई बैठक के बाद पत्रकारों को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने 18 से 45 साल के आयुवर्ग के लोगों को टीका लगाने की अनुमति दे दी है और राज्य में उनके लिये एक मई से टीकाकरण शुरू होगा.Also Read - महाराष्ट्र के मंत्री ने केंद्रीय मंत्री सिंधिया से औरंगाबाद एयरपोर्ट का नाम संभाजी के नाम पर करने की मांग की, क्‍या कांग्रेस, एनसीपी नाराज नहीं होंगी ?

उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘हमने मुख्य सचिव सीताराम कुंते की अध्यक्षता वाली एक समिति के तहत कोविड-19 टीकों और रेमडेसिविर के लिये वैश्विक निविदा आमंत्रित करने का निर्णय लिया है .’ उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के सीईओ आदर पूनावाला के साथ टीके के बारे में विस्तार से चर्चा की है. उन्होंने दावा किया कि आदार पूनावाला ने राज्य की संपूर्ण आवश्यकताओं को पूरा करने में अक्षमता प्रकट की है. Also Read - G-Pay ने 30 साल की महिला के मर्डर का राज खोला, गोवा पुलिस 24 घंटे में आरोपी को अरेस्‍ट किया

पवार ने कहा, ‘उन्होंने हमसे कहा कि वह अपनी क्षमता के अनुसार हमें टीकों की खुराकें दे सकते हैं. उन्होंने शेष खुराकें अन्य कंपनियों से खरीदने के लिये कहा है.’ पवार ने कहा, ‘हम यह भी सुनिश्चित करेंगे कि राज्य केन्द्र सरकार के साथ समन्वय और सहयोग से विदेशी निर्माताओं के टीके हासिल करे.’ Also Read - Delhi Coronavirus Update: दिल्ली में कोरोना में बड़ी भारी गिरावट, एक की मौत

चिकित्सीय ऑक्सीजन के संकट पर पवार ने कहा कि राज्य सरकार इस मुद्दे के समाधान के लिये हर संभव प्रयास कर रही है. उन्होंने कहा कि राज्य को जामनगर से 240-250 मीट्रिक टन चिकित्सीय ऑक्सीजन मिला करती थी. पवार ने कहा, ‘हमें सूचना मिली है कि महाराष्ट्र के कोटे को कम करके 125 मीट्रिक टन कर दिया गया है.’ पवार ने कहा, ‘केन्द्र सरकार ने विभिन्न राज्यों की ऑक्सीजन की आपूर्ति अपने नियंत्रण में ले ली है. हमने कम से कम 250 मीट्रिक टन का हमारा पुराना कोटा बरकरार रखने का अनुरोध किया है.’

(इनपुट भाषा)