मुंबई: महाराष्‍ट्र में उद्धव ठाकरे सरकार बनाम कंगना रनौत की लड़ाई चालू आहे…और इसी क्रम में महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को कहा कि मुंबई पुलिस को एक्‍ट्रेस कंगना रनौत पर लगाए गए मादक पदार्थों के सेवन करने के आरोप की जांच करने के लिए कहा है. मुंबई पुलिस को इस सिलसिले में राज्य के गृह विभाग से एक पत्र प्राप्त हुआ है. इस विषय की जांच अपराध शाखा करेगी. Also Read - KKR vs SRH: मोर्गन-गिल की साझेदारी ने पलट दिया मैच, ये हैं कोलकाता की जीत के 5 बड़े कारण

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने यह जानकारी देते हुए बताया कि महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को कहा कि मुंबई पुलिस को कंगना रनौत पर लगाए गए मादक पदार्थों के सेवन करने के आरोप की जांच करने कहा गया है. Also Read - IPL 2020: लगातार दूसरी बार हारी सनराइजर्स हैदराबाद, डेविड वॉर्नर बोले- मुझे अपने फैसले पर कोई पछतावा नहीं

महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने मंगलवार को कहा था कि मुंबई पुलिस एक्‍टर अध्ययन सुमन के इन आरोपों की जांच करेगी कि कंगना ने मादक पदार्थों का सेवन किया था. देशमुख ने कहा था कि अभिनेता शेखर सुमन के बेटे अध्ययन ने एक साक्षात्कार में यह आरोप लगाया था. कुछ साल पहले अध्ययन और कंगना के बीच संबंध थे. Also Read - बीजेपी को बड़ा झटका, कृषि विधेयकों के मुद्दे पर NDA से अलग हुआ सबसे पुराना सहयोगी अकाली दल

पुलिस अधिकारी ने बताया कि शिवसेना विधायक प्रताप सरनाइक ने गृह विभाग को एक पत्र सौंप कर अध्ययन के इंटरव्‍यू में लगाये आरोप का जिक्र किया था. इस पत्र पर संज्ञान लेते हुए विभाग ने पुलिस को जांच करने कहा है.

बता दें कि कि कंगना ने मुंबई की तुलना ”पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर’ (पीओके) से की थी, उनकी यह टिप्पणी महाराष्ट्र में गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रही शिवसेना को नागवार गुजरी. इसके बाद, अभिनेत्री और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे नीत शिवसेना के बीच जुबानी जंग छिड़ गई. इसके बाद बीएमसी कंगना के ऑफिस में अतिक्रमण और नियमों का उल्‍लंघन का आरोप लगाते हुए तोड़फोड़ की थी.

मुंबई में बृहन्मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) अधिकारियों द्वारा रनौत के कार्यालय के कुछ हिस्सों को गिराये जाने के एक दिन बाद, एक्‍ट्रेस ने गुरुवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे पर ‘सत्ता के दुरुपयोग’ का आरोप लगाया था और महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि उनकी आवाज दूर तक जाएगी.

कंगना ने ट्वीट कर कहा था, ”आपके पिता के अच्छे कर्म आपको धन दे सकते हैं, लेकिन आपको सम्मान अर्जित करना होगा, आप मेरा मुंह बंद कर देंगे, लेकिन मेरी आवाज मेरे बाद करोड़ों लोगों में गूंज उठेगी, आप कितने मुंह बंद करेंगे?”
”आप कितनी आवाजें दबाएंगे? कब तक आप सच्चाई से दूर भागेंगे, आप वंशवाद के एक उदाहरण के अलावा और कुछ नहीं हैं.”

कंगना ने शिवसेना के नेतृत्व वाले बीएमसी की गुंडों से तुलना करते हुए कई ट्वीट् पोस्ट किए, जिसमें उन्होंने राज्य सरकार को एक मिलावटी सरकार कहा था.