मुंबई: हाल ही में महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने भारत रत्न लता मंगेशकर और सचिन तेंदुलकर के साथ ही अक्षय कुमार, साइना नेहवाल और अन्य की ओर से हाल ही में किसानों के विरोध प्रदर्शन के संबंध में किए गए ट्वीट की जांच का आदेश दिया थे. लेकिन अब उन्होंने अपने इस बयान से यू-टर्न ले लिया है.Also Read - Lata Mangeshkar Health Update:15वें दिन भी ICU में हैं लता मंगेशकर, सेहत में हो रहा है सुधार

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने लता मंगेशकर और सचिन तेंदुलकर के ट्वीट की जांच के मामले में सफाई दी है. देशमुख ने कहा कि लता मंगेशकर हमारे लिए भगवान की तरह हैं और सचिन तेंदुलकर को पूरा भारत मानता है. इनके ट्विट की जांच का सवाल ही नहीं उठता. Also Read - Sachin Tendulkar के फैन Sudhir Kumar को बिहार पुलिस ने पीटा, DSP से शिकायत

देशमुख ने अपने बयान पर सफाई देते हुए कहा, “मैंने तो कहा था कि जिस तरह से ये ट्विट किए गए हैं.. उसे देखते हुए बीजेपी की IT cell की जांच होनी चाहिए.” देशमुख ने कहा कि मीडिया ने मेरे बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया. Also Read - EPFO Latest Update: EPFO ने नवंबर 2021 में जोड़े 13.95 लाख ग्राहक, 8.28 लाख लोग पहली बार बने मेंबर

अनिल देशमुख ने कहा, “सेलिब्रिटी के ट्विट को लेकर मेरे बयान को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया. मैंने कहा था कि जिस तरह ट्वीट किए गए हैं उसे देखते हुए बीजेपी की आईटी सेल की जांच होनी चाहिए लेकिन खबर ऐसी बनाई गई जैसे लता मंगेशकर और सचिन तेंदुलकर की जांच होगी. लता हमारे लिए भगवान की तरह हैं और सचिन को पूरा देश मानता है. इनकी जांच का सवाल ही नहीं उठता.”

बता दें कि इन सितारों ने ट्वीट अंतर्राष्ट्रीय पॉप स्टार रिहाना और पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग के उन ट्वीट के जवाब में किए थे, जिसमें रिहाना और ग्रेटा ने भारत में चल रहे किसान आंदोलन को अपना समर्थन दिया था. रियाना के ट्वीट के जवाब में लता मंगेशकर, सचिन तेंदुलकर, अक्षय कुमार, अजय देवगन और अन्य हस्तियों ने एकजुट रहने का आह्वान किया था.