Maharashtra Lockdown Update: कोरोना की दूसरी लहर का कहर धीरे-धीरे कम हो रहा है, हालांकि तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए राज्य अपने हिसाब से पाबंदियां लगा रहे हैं. इन सबके बीच लॉकडाउन को लेकर महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे (Rajesh Tope) ने बड़ा बयान जारी किया है. महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने शुक्रवार को कहा कि आने वाले दिनों में राज्य में लॉकडाउन नहीं लगाया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘निकट भविष्य में फिर से लॉकडाउन (Lockdown) लगाने की कोई संभावना नहीं है. मैं लोगों से गणेश उत्सव मनाते समय भीड़भाड़ से बचने की अपील करता हूं. उत्सव सादगीभरा होना चाहिए.’ उन्होंने कहा, ‘सरकार विभिन्न दिशा-निर्देश जारी कर रही है और उनका हर समय पालन किया जाना चाहिए.’Also Read - ICMR Study: गर्भवती महिलाओं के कोरोना संक्रमित होने का जोखिम अधिक, जानें अध्ययन में क्या आया सामने...

उधर, दूसरी तरफ महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजित पवार (Ajit Pawar) ने चिंता जताई है. अजित पवार (Ajit Pawar On Lockdown) ने कोरोना नियमों का उल्लंघन करने वाले लोगों को चेताया है कि ऐसी स्थिति दोबारा उत्पन्न न करें, जिसमें कि वायरस की तीसरी लहर आने की स्थिति में सबकुछ बंद (Maharashtra Lockdown News) करना पड़े. Also Read - केरल एक लाख से ज्यादा उपचाराधीन मरीजों वाला एक मात्र राज्य, देश के 64 जिलों में हालात चिंताजनक: सरकार

अजित पवार ने कहा कि केरल और महाराष्ट्र में संक्रमण के सर्वाधिक मामलों के मद्देनजर केंद्र सभी राज्यों को पहले ही आगाह कर चुका है. उन्होंने कहा, ‘दुर्भाग्य की बात है कि ग्रामीण इलाकों में कुछ लोग बेपरवाह हो गए हैं, वे कोरोना वायरस से डर नहीं रहे. वे मास्क नहीं पहनते, सामाजिक दूरी का पालन नहीं करते और उन्होंने ऐसा मान लिया है कि वह दौर (कोरोना वायरस का) अब गुजर चुका है. इसी के कारण संक्रमण के मामलों की संख्या बढ़ी है.’ Also Read - Coronavirus cases In India: फिर 30 हजार के पार पहुंचा कोरोना केस, एक दिन में इतने लोगों की मौत

उन्होंने अपील की, ‘इसे कहीं न कहीं तो रोकना होगा. लोगों को राज्य सरकार तथा प्रशासन के लिए ऐसी स्थिति पैदा नहीं करनी चाहिए जिसमें कि यदि तीसरी लहर आती है तो उन्हें सबकुछ बंद करना पड़े.’ स्कूलों को पुन: खोले जाने के सवाल पर पवार ने कहा कि विशेषज्ञों से बातचीत चल रही है और इस बारे में निर्णय लिया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘इस बारे में दो मत हैं. कुछ लोग कहते हैं कि स्कूलों को दीपावली के बाद खोला जाना चाहिए और कुछ कहते हैं कि ऐसे स्थानों पर स्कूल खोले जाने चाहिए जहां संक्रमण दर शून्य है. इस बारे में मुख्यमंत्री निर्णय लेंगे.’

राज्य में मंदिर खोलने की भारतीय जनता पार्टी और महाराष्ट्र नव निर्माण सेना की मांग पर पवार ने कहा कि निकाय चुनाव करीब हैं और ऐसे में हर दल अपनी मौजूदगी का अहसास करवाना चाहता है और यही वजह है कि भावनाओं से जुड़े इस मुद्दे को उठाया जा रहा है. पुणे के संरक्षक मंत्री पवार ने जिले में कोविड-19 हालात को लेकर एक समीक्षा बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में यह कहा. उन्होंने कहा कि गणेश उत्सव का समय भी करीब आ रहा है और लोगों को बड़े पैमाने पर उत्सव मनाने से बचना चाहिए.

उधर, महाराष्ट्र में शुक्रवार को कोरोना वायरस के 4,313 नए मरीज मिले तथा 92 और संक्रमितों ने दम तोड़ दिया. इसके बाद राज्य में कुल मामले 64,77,987 हो गए हैं और मृतक संख्या 1,37,643 पहुंच गई है. स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि आज सबसे ज्यादा 35 मौतें पुणे क्षेत्र में हुई हैं. राज्य में संक्रामक रोग से 4,360 और मरीजों के उभरने से संक्रमण मुक्त होने वाले लोगों की संख्या 62,86,345 हो गई है. राज्य में संक्रमण का इलाज करा रहे मरीजों की संख्या अब 50,466 रह गई है.

(इनपुट: भाषा)