Maharashtra News: महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने आज अपने दो साल पूरे कर लिए हैं. इस अवसर पर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि उनकी सरकार के दो साल के कार्यकाल का ज्यादातर हिस्सा कोविड-19 के प्रबंधन में बीता और महा विकास आघाड़ी (एमवीए) इस आपदा को अवसर में बदलने में कामयाब रही. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के तौर पर अपनी सरकार के दो साल पूरे करने के अवसर पर दिए गए एक बयान में सीएम ठाकरे लोगों का धन्यवाद किया और कहा कि यह “जनता की सरकार” है. बता दें कि सीएम उद्धव ठाकरे अभी अपनी  रीढ़ की हड्डी की सर्जरी के बाद से एक निजी अस्पताल में भर्ती हैं.Also Read - Maharashtra News: 12 भाजपा विधायकों के निलंबन पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, "निलंबित करने का प्रस्ताव असंवैधानिक है"

संकट को हमने अवसर बनाया Also Read - Maharashtra: नासिक में ऑनलाइन क्लास के लिए मोबाइल नहीं होने पर 11वीं की छात्रा ने की खुदकुशी

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा, “मानव निर्मित और प्राकृतिक आपदाओं के दौरान हम घबराए नहीं और हमारा ध्यान आम आदमी के कल्याण पर रहा. हमारी सरकार का पिछले दो वर्ष का अधिकांश हिस्सा कोविड-19 प्रबंधन में चला गया. संकट को अवसर में बदलने में हम सफल हुए.” ठाकरे ने कहा कि वैश्विक महामारी से निपटते वक्त उनकी सरकार एवं प्रशासन में कोई नकारात्मकता नहीं थी. Also Read - Maharashtra News: महाराष्ट्र में पुल से गिरी कार, BJP MLA के बेटे सहित 7 मेडिकल छात्रों की दर्दनाक मौत

उन्होंने कहा, “हमने राज्य में औद्योगिक निवेश, कृषि आधारभूत संरचना, आवास, रोजगार, जलापूर्ति, सौर ऊर्जा, पर्यावरण, वन और पर्यटन क्षेत्र में सुधार लाने के लिए कड़ी मेहनत की है और सरकार के प्रयासों से आम आदमी का कल्याण कैसे सुनिश्चित होगा, इस पर ध्यान दिया.”

सीएम ने खुश होकर गिनाईं उपलब्धियां

मुख्यमंत्री ने कहा कि महात्मा ज्योतिराव फुले कृषि ऋण माफी योजना के तहत किसानों का 20,000 करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया गया है. ठाकरे ने कहा कि राज्य सरकार ने अस्पतालों को 2,600 करोड़ रुपये उपलब्ध कराए और 14.4 लाख लोगों को महात्मा ज्योतिराव फुले जन आरोग्य योजना के तहत मुफ्त में इलाज दिया गया.

बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा के 2019 के चुनाव के बाद ठाकरे के नेतृत्व वाली शिवसेना ने मुख्यमंत्री पद साझा करने के मुद्दे पर लंबे समय से अपनी सहयोगी रही भारतीय जनता पार्टी के साथ अपना गठबंधन तोड़ लिया था. इसके बाद शिवसेना ने एमवीए, महाविकास अघाड़ी सरकार के गठन के लिए राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी  और कांग्रेस के साथ गठबंधन किया और सरकार बनाई.