Maharashtra News: महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख को Enforcement Directorate (ED)ने मंगलवार को फिर से पूछताछ के लिए बुलाया है. आज अनिल देशमुख ईडी के समक्ष पेश हो सकते हैं. प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने देशमुख को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूछताछ के लिए दूसरी बार तलब किया है. इससे पहले ईडी ने अनिल देशमुख को शनिवार को पेश होने के लिए कहा था. लेकिन उन्होंने अधिकारियों के सामने पेश होने में असमर्थता जताई थी.Also Read - Maharashtra Crisis: 16 विधायकों को डिप्टी स्पीकर भेजेंगे नोटिस, शिवसेना ने की अयोग्य ठहराए जाने की मांग

दूसरी बार आज ईडी ने देशमुख को किया है तलब Also Read - Maharashtra Political Crisis Updates: एकनाथ शिंदे ने डिप्टी स्पीकर को भेजी चिट्ठी, खुद को विधायक दल का बताया नेता

इस मामले में अब अनिल देशमुख के सिर पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है. ईडी ने समन जारी कर उन्हें मंगलवार को बेलार्ड पियर्स स्थित दफ्तर बुलाया है. शनिवार को देशमुख के वकील जयवंत पाटिल ने ईडी दफ्तर पहुंचकर उन्हें समय देने की मांग की थी और साथ ही देशमुख से पूछताछ के संबंध में भी जानकारी मांगी थी. हालांकि उस समय ईडी के अधिकारियों ने पेशी के बारे में कोई तारीख नहीं दी थी.अब देशमुख को मंगलवार को पेश होने के लिए कहा गया है. Also Read - एक महीने से ज्यादा समय तक जेल में रहने के बाद एक्ट्रेस Ketaki Chitale रिहा, जानें शरद पवार के खिलाफ क्या की थी टिप्पणी!

देशमुख के निजी सचिव, निजी सहायक को ईडी ने किया था गिरफ्तार
इस मामले में ईडी ने देशमुख के निजी सचिव संजीव पलांडे और निजी सहायक कुंदन शिंदे को शनिवार तड़के गिरफ्तार कर लिया था और फिलहाल, दोनों ईडी की हिरासत में हैं.

इससे पहले ईडी ने शुक्रवार को महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के नागपुर और मुंबई के वर्ली वाले घर पर छापेमारी की थी. बता दें  ईडी की ओर से नागपुर और मुंबई में अलग-अलग छापेमारी की जा रही है.

मुंबई के पूर्व कमिश्नर ने लगाया है देशमुख पर आरोप

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह की ओर से महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख पर पैसे की वसूली के आरोप लगाए जाने के बाद उनपर मनी लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया गया था, जिसको लेकर ईडी लगातार उनसे पूछताछ कर रही है. इस मामले में ईडी ने तलोजा जेल में पूर्व पुलिस अधिकारी सचिन वाजे का भी बयान दर्ज किया है.

बता दें कि अनिल देशमुख ने शुक्रवार को कहा कि परम बीर सिंह ने मुंबई पुलिस कमिश्नर के पद से हटाए जाने के बाद मुझ पर झूठे आरोप लगाए क्योंकि उनकी भूमिका बेहद संदिग्ध थी. सबसे बड़ी बात ये है कि जब वह पद पर थे तब उन्होंने मुझपर आरोप क्यों नहीं लगाए?