Maharashtra News Today 2 July 2020: कोरोना वायरस संक्रमण से बुरी तरह प्रभावित महाराष्ट्र के कई इलाकों में स्थिति अब भी बेहद खराब है. ऐसे में संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मुम्बई से लगे ठाणे और दो अन्य नगर निकायों में 10 दिन का पूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया है. Also Read - मुंबई को मिली बड़ी राहत, बीएमसी ने दी पांच अगस्त से सभी दुकानें खोलने की इजाजत

अधिकारियों ने बताया कि चिकित्सकीय आपात स्थिति और आवश्यक सेवाओं को इस दौरान छूट दी गई है. जबकि अंतर-शहरीय बसों, ऑटो-रिक्शा और टैक्सी को इन इलाकों में नहीं आने दिया जाएगा. Also Read - बीएस येदियुरप्पा की बेटी भी कोविड-19 की जांच में संक्रमित, बेटे को किया गया क्वारंटीन

अधिकारियों ने बताया कि मुम्बई महानगर क्षेत्र के अधीन आने वाले ठाणे नगर निगम (टीएमसी), कल्याण डोम्बिवली नगर निगम (केडीएमसी) और मीरा भायंदर नगर निगम ने कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए अगले 10 दिन तक पूर्ण लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है. उन्होंने बताया कि यह लॉकडाउन बृहस्पतिवार सुबह सात बजे शुरू हुआ जो 12 जुलाई सुबह सात बजे तक रहेगा. Also Read - BCCI SOP: 60 साल के अरुण लाल और 65 साल के डेव वाटमोर अब नहीं दे सकते कोचिंग, जानिए वजह

Lockdown In Panvel and Navi Mumbai

नवी मुंबई और पनवेल के नगर निगम में तीन जुलाई आधी रात से पूर्ण लॉकडाउन लागू होगा.

केडीएमसी के आयुक्त विजय सूर्यवंशी ने कहा, ‘‘ हमें कोरोना वायरस संक्रमण की श्रृंखला तोड़नी होगी. आवश्यक सेवाओं में काम करने वालों को लॉकडाउन में छूट दी जाएगी और वे काम पर जा सकेंगे.’’

टीएमसी के एक अधिकारी ने बताया कि अंतर शहरीय बस सेवाएं, ऑटो-रिक्शा, टैक्सियों और एप के जरिए बुक की जाने वाली कैब को परिचालन की अनुमति नहीं होगी.

उन्होंने कहा, ‘‘ चिकित्सकीय स्थिति में छूट है. एक मरीज के एक साथ कैब या ऑटो-रिक्शा में एक ही व्यक्ति जा सकता है. बैंक, एटीएम, आईटी, भारतीय डाक, इंटरनेट और डाटा सेवाओं, दवा की दुकानों को भी लॉकडाउन में छूट दी गई है.’’

प्रशासन ने बताया कि ठाणे जिले में बुधवार को कोविड-19 के 1,322 नए मामले सामने आए, जिसके साथ ही यहां संक्रमण के मामले बढ़कर 39,646 हो गए.

ठाणे शहर में 9,138, नवी मुम्बई में 6,823 जबकि कल्याण में करीब 7000 कोविड-19 के मामले हैं.

ठाणे जिले में कोविड-19 से अभी तक 1094 लोगों की जान जा चुकी है, जिनमें ठाणे के 340, नवी मुम्बई के 217, कल्याण के 120 और मीरा भायंदर के 145 लोग शामिल हैं.