पुणे: पुणे स्थित एक अस्पताल के डॉक्टरों ने दस वर्षीय एक ऐसी बच्ची का सफलतापूर्वक इलाज करने का दावा किया है जो कोविड-19 और डेंगू दोनों से पीड़ित थी. डॉक्टरों ने यह भी दावा किया कि यह मामला, बच्चों में कोविड-19 और डेंगू दोनों बीमारी होने के अब तक सामने आए पहले मामलों में से एक है. Also Read - कोरोना से उबरे गृह मंत्री अमित शाह, लोकसभा की कार्यवाही में भाग ले सकते हैं

महाराष्ट्र में यहां पिंपरी चिंचवड़ में स्थित निजी अस्पताल की फ्लू क्लिनिक में बच्ची को 12 अगस्त को भर्ती कराया गया था. आदित्य बिड़ला मेमोरियल अस्पताल की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि बच्ची को तेज बुखार, गले में सूजन और मितली की समस्या थी. Also Read - गर्लफ्रेंड के साथ समय बिताने के लिए कोरोना पॉजिटिव बता 'लापता' हो गया शख्स, पत्नी को हुआ शक और फिर...

अस्पताल के अनुसार मरीज की जांच में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई लेकिन उसे कफ या सांस लेने में तकलीफ की कोई शिकायत नहीं थी. अस्पताल के अनुसार बच्ची को तेज बुखार था और उसे तत्काल पृथक-वास वार्ड में भर्ती कर इलाज शुरू किया गया. Also Read - कल से फिर दुबई के लिए शुरू होंगी एयर इंडिया एक्सप्रेस की उड़ानें, केवल 24 घंटे का लगा 'प्रतिबंध'

डॉक्टरों ने उसे दवा देना शुरू किया और मरीज का सीटी स्कैन भी किया गया. डॉ वृषाली बिछकर ने कहा कि बच्ची की जांच में डेंगू की पुष्टि भी हुई. उन्होंने कहा कि इसके बाद डॉक्टरों ने दोनों संक्रमण का इलाज करना शुरू कर दिया. उन्होंने कहा, “बच्ची के तापमान, रक्तचाप, शरीर में पानी का स्तर इत्यादि पर निगरानी रखी गई. भर्ती होने के तीसरे दिन बुखार में कमी आनी शुरू हुई और मुंह से दवा लेने की स्थिति में सुधार हुआ.”

भर्ती होने के पांचवें दिन बच्ची के शरीर में श्वेत रक्त कोशिका (डब्ल्यूबीसी), प्लेटलेट, यकृत एंजाइम की संख्या में वृद्धि देखी गई. अस्पताल ने कहा, “बच्ची की दोबारा की गई आर टी पीसीआर जांच में संक्रमण नहीं पाया गया और रक्त की जांच में प्राथमिक स्तर का डेंगू संक्रमण मिला. बाद में उसके शरीर में डब्ल्यूबीसी और प्लेटलेट संख्या सामान्य हो गई थी. मरीज को 20 अगस्त को स्वस्थ हालत में अस्पताल से छुट्टी दे दी गई.”

अस्पताल में बाल रोग विभाग के असोसिएट निदेशक डॉ राहुल कल्लियनपुर ने कहा कि उनकी जानकारी के अनुसार यह मामला, बच्चों में कोविड-19 और डेंगू दोनों प्रकार के संक्रमण होने के अब तक सामने आए पहले मामलों में से एक है.

(इनपुट भाषा)