मुंबई: तटीय महाराष्ट्र से टकराने के चार दिनों बाद दक्षिण पश्चिम मानसून ने लगातार प्रगति की है और अब यह पूरे राज्य में पहुंच गया है भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के एक अधिकारी ने रविवार को कहा कि अभी तक मानसून की प्रगति सामान्य और उम्मीदों के मुताबिक रही है. Also Read - कोरोना: महाराष्ट्र के इस जिले में 10 से 18 जुलाई तक लागू होगा सख्त लॉकडाउन, जानें डिटेल

आईएमडी के मुंबई केंद्र के उप महानिदेशक के. एस. होसलीकर ने कहा कि पिछले 10 दिनों में मध्य और उत्तर महाराष्ट्र तथा विदर्भ में लगातार बारिश हुई है. उन्होंने कहा, ”दक्षिण पश्चिम मानसून रविवार को पूरे राज्य में पहुंच गया.” Also Read - Coronavirus in Thane: महाराष्ट्र में कोविड-19 का प्रकोप, ठाणे में संक्रमितों की संख्या 42,420 हुई, मृतकों की संख्या 1,268 पहुंची

उप महानिदेशक ने कहा, ”उत्तर महाराष्ट्र और मराठावाड़ा क्षेत्र के ज्यादातर हिस्सों को हर साल पानी की कमी का सामना करना पड़ता है. यह अच्छा संकेत है कि इन इलाकों में इस साल बारिश हुई है. इससे किसानों को बुवाई से पूर्व की गतिविधियों में मदद मिलेगी.” हालांकि, नासिक समेत कुछ शहरी इलाकों में भारी बारिश से लोगों को असुविधा हुई. Also Read - गुजरात के कई जिलों में भारी बारिश, अगले तीन दिनों तक जारी रह सकता है कहर

भारी बारिश के बाद शनिवार को नासिक रोड पुलिस थाने में जलभराव हो गया. पुलिस थाने के एक अधिकारी ने कहा, ”हमारे इलाके में शाम करीब छह बजे बारिश शुरू हुई और कुछ घंटों के भीतर नासिक रोड पुलिस थाना डूब गया. सभी कर्मचारियों को पानी की निकासी के लिए कोशिशें करनी पड़ी.”

पिछले कुछ वर्षों में पानी की कमी का सामना करने वाले बीड जिले में पिछले एक हफ्ते में अच्छी बारिश हुई, जिससे सूख चुकी कुछ नदियां भी भर गई. राज्य कृषि विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इस गर्मी में पूरी तरह सूख गई चौसाला नदी बारिश के बाद शनिवार को भर गई. उन्होंने कहा, ”अगर मानसून की मौजूदा प्रवृत्ति राज्य में जारी रहती है तो हम जल्द ही फसलों की बुवाई देख सकते हैं.