गढ़ चिरौली: महाराष्ट्र में उग्रवाद प्रभावित गढ़चिरौली जिले के अरेवाडा पंचायत कार्यालय परिसर में माओवादियों ने कथित रूप से एक काला झंडा फहराया. पुलिस ने आज यह जानकारी दी. कुछ स्थानीय लोगों ने उस समय वहां काला झंडा देखा, जब देश के 72वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर सुबह तिरंगा फहराने के लिए वे लोग पंचायत कार्यालय गए थे. अरेवाडा गांव जिले के भामरागढ तालुक में स्थित है. यह गांव गढ़चिरौली से लगभग 180 किलोमीटर दूर स्थित है.Also Read - क्‍या शिवसेना कांग्रेस के नेतृत्‍व वाले UPA में होगी शामिल? संजय राउत ने दिया ये जवाब

Also Read - Maharashtra Omicron Update: 30 हजार यात्र‍ियों की COVID19 स्‍क्रीनिंग में अब तक 10 ओमीक्रोन पॉजिटिव मिले

Independence Day: राज्यपाल ने सेना, सुरक्षाबलों को सराहा, कहा- पाकिस्तान से है बेहतर संबंधों की उम्मीद Also Read - Omicron In Maharashtra: मुंबई में मिले 'Omicron' संक्रमित 2 और मरीज, महाराष्ट्र में आंकड़ा 10 पहुंचा

भामरागढ़ पुलिस थाना के निरीक्षक और प्रभारी सुरेश मेदनी ने बताया कि ‘ग्रामीणों ने हमें सुबह सूचना दी कि पंचायत कार्यालय में उन्हें एक काला झंडा लहराता हुआ मिला है.’ उन्होंने कहा कि ‘चूंकि, गांव सुदूर स्थित है इसलिए हम तत्काल नहीं पहुंच सके. यह गांव एक नक्सल प्रभावित क्षेत्र में आता है. ऐसी आशंका है कि उग्रवादी घात लगाकर पुलिस पर हमला कर सकते हैं.’ एक ग्राम सेवक ने बताया कि उन्होंने सबसे पहले उस समय काला झंडा देखा जब वह स्वतंत्रता दिवस समारोह में तिरंगा फहराने के लिए गए थे. हालांकि, उन्होंने डर के कारण यह झंडा नहीं हटाया.

‘तिरंगे में लिपटा आऊं, तो उदास न होना’ कह शहीद हुए पुष्पेंद्र, जश्ने आजादी के बीच गम में डूबे गांव के लोग

मेदनी ने कहा कि उन्होंने स्थानीय लोगों और ग्राम पंचायत अधिकारियों से काला झंडा हटाने के लिए कहा था. अभी यह पता नहीं चल सका है कि उन्होंने झंडे को हटाया है या नहीं.’ पुलिस को आशंका है कि इस कृत्य के पीछे माओवादियों का हाथ है. उन्होंने बताया कि ग्रामीणों को एक बैनर भी मिला है जिसे नक्सलियों ने कथित रूप से पंचायत कार्यालय के बाहर लगाया है. इस बैनर में लोगों से कहा गया है कि उन्हें स्वतंत्रता दिवस समारोह का बहिष्कार करना चाहिए.