औरंगाबाद: मराठी ‘कीर्तनकार’ निवृत्ति महाराज इंदुरीकर ने यौन संबंधों के समय और बच्चे का लिंग निर्धारण करने संबंधी अपनी टिप्पणी से उत्पन्न विवाद को खत्म करने के प्रयास में मंगलवार को माफी मांग ली. इससे पहले महाराष्ट्र सरकार में मंत्री बच्चू कडू ने कहा था कि सरकार इंदुरीकर के खिलाफ मामला दर्ज नहीं कराएगी. इंदुरीकर ने हाल ही में अहमदनगर जिले में अपने कीर्तन के दौरान कथित तौर पर कहा था कि सम संख्या वाली तारीख पर यौन संबंध बनाने से बेटे का जन्म होता है और विषम संख्या वाली तारीख पर यौन संबंध बनाने से बेटी पैदा होती है. Also Read - Disha Vakani को 'ऐ पागल औरत' कहने की जेठालाल को मिली थी ऐसी सजा, बोलें- दयाबेन सेट पर ऐसे करती थीं कि...

अंधविश्वास समाप्त करने की दिशा में काम करने वाली स्वयंसेवी संस्था ‘महाराष्ट्र अंध-श्रद्धा निर्मूलन समिति’ ने पिछले सप्ताह इंदुरीकर महाराज के खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज करने की मांग की थी. संस्था का आरोप है कि इंदुरीकर महाराज की टिप्पणी ने गर्भाधान पूर्व एवं प्रसव पूर्व निदान तकनीक (पीसीपीएनडीटी) अधिनियम का उल्लंघन किया है. अपने एक बयान में इंदुरीकर महाराज ने कहा कि अगर उनकी टिप्पणी से किसी की भावना आहत हुई है तो वह इसके लिए माफी मांगते हैं. उन्होंने कहा, ‘‘पिछले 26 साल में कीर्तन करने के दौरान मैंने अंधविश्वास और अन्य सामाजिक बुराइयों से लड़ने पर बल दिया है… अगर मेरी टिप्पणी से किसी की भावना आहत हुई है तो मैं इसके लिए माफी मांगता हूँ.’’ Also Read - Maharashtra: कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए ऑक्सीजन की बढ़ी मांग, औरंगाबाद प्रशासन ने खरीदा ऑक्सीजन प्लांट

इससे पहले मंत्री ने कहा था कि राज्य सरकार इंदुरीकर के खिलाफ मामला दर्ज नहीं कराएगी. बच्चू कडू ने उस्मानाबाद में सोमवार शाम को संवाददाताओं से कहा, ‘‘इंदुरीकर महाराज अपने कीर्तन के जरिए लोगों में ज्ञान फैला रहे हैं. अगर वह कुछ गलत करेंगे तो कानून अपना काम करेगा लेकिन इसका यह अर्थ नहीं है कि उनके खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज किया जाए. हमें ऐसी टिप्पणी करने से पहले उनके आशय को समझने की कोशिश करनी चाहिए.’’उन्होंने कहा, ‘‘कानून सबके लिए समान है. अगर कोई गलती करता है तो उसे सजा मिलेगी. लेकिन अगर कोई शब्द गलती से मुंह निकल जाए तो उसपर बखेड़ा खड़ा करना गलत है.’’इंदुरीकर महाराज ने सोमवार को कहा था कि कुछ लोग उनके द्वारा किए जा रहे सामाजिक कार्य से नाराज हैं. Also Read - Maharashtra: औरंगाबाद के व्यापारियों ने Covid-19 के प्रतिबंधों के खिलाफ प्रदर्शन की दी चेतावनी