नागपुर: महाराष्ट्र (Maharashtra) के नागपुर (Nagpur) में पारिवारिक झगड़े (family quarrel)के बाद ग़ुस्से में घर छोड़कर निकली एक नाबालिग लड़की (Minor girl) से दो अलग-अलग स्थानों पर कुछ घंटे के भीतर छह लोगों ने गैंगरेप (gang-rape)किया है. आरोपियों में से चार आटोरिक्शा चालक शामिल हैं. पुलिस ने रविवार को बताया कि तीन आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है.Also Read - BJP नेता किरीट सोमैया को कोल्‍हापुर पहुंचने से पहले सतारा जिले के कराड रेलवे स्‍टेशन में हिरासत में लिया गया

एक अधिकारी ने बताया कि गुरुवार की रात तिमकी इलाके में एक कमरे में नाबालिग का चार लोगों ने यौन उत्पीड़न किया और इसके बाद मायो अस्पताल चौराहे के निकट दो लोगों ने ऑटोरिक्शा में उससे कथित तौर पर दुष्कर्म किया. Also Read - ISI Terror Module: ओसामा के चाचा ने प्रयागराज में सरेंडर किया, देश में पूरे आतंकी नेटवर्क को को-ऑर्डिनेट कर रहा था

पुलिस ने बताया कि अनुसूचित जाति से ताल्लुक़ रखने वाली लड़की का घर में भाभी से झगड़ा हो गया था. पुलिस ने बताया कि इसके बाद वह घर छोड़कर निकल गई और उसके एक दोस्त ने उसे अपने ऑटोरिक्शा से लोहापुल इलाके में छोड़ दिया, जहां वह एक ऑटोरिक्शा चालक से मिली, जिसकी पहचान बाद में शाहनवाज उर्फ़ सना मोहम्मद राशिद (25) के रूप में हुई. Also Read - Char Dham Yatra Guidelines: कल से शुरू हो रही है चारधाम यात्रा, दर्शन के लिए जरूरी है रजिस्ट्रेशन और ई-पास, जानिए डिटेल्स

अधिकारी ने प्राथमिकी के आधार पर बताया कि लड़की ने शाहनवाज से पैसे और आश्रय की मदद मांगी और वह मदद देने के बहाने उसे अपने ऑटोरिक्शा में बिठाकर एक अवैध शराब की दुकान पर लेकर गया, जहां उसने शराब पी और लड़की को भी पीने को मजबूर किया. इसके बाद वह उसे तिमकी में दो लोगों के किराये के घर में ले गया, जो नागपुर रेलवे स्टेशन पर लोडर (सामान चढ़ाने-उतारने) का काम करते हैं. अधिकारी ने बताया कि वहां लड़की से शाहनवाज, उसके दोस्त तौशीफ मोहम्मद यूसुफ (26) और दो लोडर ने दुष्कर्म किया.

अधिकारी ने बताया कि इसके बाद शाहनवाज़ ने लड़की को मायो अस्पताल चौराहे पर छोड़ दिया. अधिकारी के अनुसार उसके वहां से जाने के बाद दो अन्य ऑटोरिक्शा चालक लड़की को जबरन अपने वाहन में ले गए और उसके साथ कथित तौर पर दुष्कर्म किया.

अधिकारी ने बताया कि बाद में वहां दो लोगों ने लड़की को देर रात अकेले पाया तो बातचीत करने पर लड़की ने उन्हें बताया कि उसे कुछ पैसों की ज़रूरत है, ताकि वह नासिक जाने वाली ट्रेन में चढ़ सके. उन्होंने उसे कुछ पैसे दिए. नागपुर रेलवे स्टेशन पर जीआरपी ने लड़की को देखा और कुछ संदेह होने पर उन्होंने लड़की को विश्वास में लिया और उसे बाल देखभाल केंद्र को सौंप दिया.

जीआरपी ने रविवार को शाहनवाज, यूसुफ़ और मोहम्मद मुशीर को गिरफ्तार कर लिया. ये सभी मोमीनपुरा के रहने वाले हैं। इन्हें सीताबर्डी पुलिस थाने को सौंप दिया गया जबकि वहीं तीन आरोपी फ़रार हैं.