पुणे: केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने रविवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कोई विकल्प नहीं है और उनकी अनुपस्थिति में अराजकता फैल जाएगी. तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी द्वारा शनिवार को आयोजित विपक्ष की रैली पर निशाना साधते हुए जावड़ेकर ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव- लोग मजबूत सरकार चाहते हैं या मजबूर सरकार जैसे मुद्दों पर लड़ा जाएगा. उन्होंने पुणे में मीडियाकर्मियों से कहा, ”कोलकाता की कल की रैली में विपक्षी दल एक साथ आए, उस पर ध्यान देने से यह स्पष्ट होता है कि ये सभी दल मोदी को हटाना चाहते हैं लेकिन विकल्प कौन है? Also Read - Madhya Pradesh by-election: चुनाव आयोग ने कमलनाथ से छीना स्टार प्रचारक का दर्जा, उनकी रैलियों के लिए प्रत्याशी को अपनी जेब से देना होगा खर्चा

केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा, ”वे विकल्प प्रस्तुत नहीं कर सकते, ऐसे में देश में स्थिति ऐसी होगी कि यदि मोदी नहीं हैं तो अराजकता होगी.” केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री ने इंद्र कुमार गुजराल, चंद्रशेखर और एच. डी. देवेगौड़ा की गठबंधन सरकारों का हवाला देते हुए कहा कि लोगों ने उन कमजोर सरकारों को झेला, जबकि दूसरी तरफ जनता मोदी की अगुवाई वाली मजबूत और नीति आधारित सरकार के फायदे देख चुकी है. वहीं, जावड़ेकर ने पीएम मोदी के बयान को ट्वीट किया है. Also Read - UP: अमेठी में ग्राम प्रधान के पति को जिंदा जलाया, एक्शन में आईं स्मृति ईरानी

केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा, इसलिए लोग मजबूत और मजबूर सरकार के बीच चुनाव करेंगे. जावड़ेकर ने कहा कि कोलकाता रैली से विपक्षी दलों की घबराहट दिखती है, क्योंकि वे घोषणापत्र या न्यूनतम साझा कार्यक्रम तैयार करने के लिए कोई समिति नहीं बना पाए, बल्कि उन्होंने इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन पर एक पैनल बनाया.

केंद्रीय मंत्री ने कहा, इससे पता चलता है कि वे अपनी संभावित हार के लिए पहले से ही बहाना ढूंढ रहे हैं, इससे उनकी घबराहट दिखी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस और अन्य विपक्षी दल मजबूर सरकार चाहते हैं ताकि वे भ्रष्टाचार कर सकें. उन्होंने कहा, ”लोग मोदी सरकार जैसी मजबूत सरकार चाहते हैं जो व्यवस्था से भ्रष्टाचार का सफाया कर रही है और उसमें लिप्त लोगों को नहीं बख्श रही है.

केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने विश्वास व्यक्त किया कि सत्तारूढ़ बीजेपी 2019 के चुनाव में 2014 से कहीं अधिक सीटें हासिल करेगी और उसका वोट शेयर भी बढ़ेगा.