Jaish-Ul-Hind: मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्फोटक रखने के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. आतंकी संगठन जैश–उल-हिंद ने इसकी जिम्मेदारी ली है और संगठन ने फिर एक संदेश के जरिए जांच एजेंसी को चुनौती दी है. संदेश में लिखा है, ‘रोक सकते हो तो रोक लो, तुम कुछ नहीं कर पाए थे जब हमने तुम्हारी नाक के नीचे दिल्ली में तुम्हें हिट किया था, तुमने मोसाद के साथ हाथ मिलाया लेकिन कुछ नहीं हुआ.’ इसके आखिर में लिखा है कि तुम्हें (अंबानी के लिए) मालूम है तुम्हें क्या करना है. बस पैसे ट्रांसफर कर दो जो तुम्हें पहले कहा गया है. Also Read - निलंबन के बाद मुंबई पुलिस ने सचिन वाजे को सेवा से बर्खास्त करने की प्रक्रिया शुरू की

मुकेश अंबानी के घर के बाह मिले थे विस्फोटक, चिट्ठी
25 फरवरी को मुकेश अंबानी के आवास एंटीलिया के बाहर एक संदिग्ध कार और 20 जिलेटिन की छड़ें मिली थीं. बुधवार रात को एक बजे के आसपास अंबानी के घर के बाहर दो गाड़ियां दिखी थीं. सीसीटीवी फुटेज में घर के बाहर दो गाड़ियां देखी गई थी जिसमें एक इनोवा भी शामिल थी. गाड़ी का ड्राइवर एसयूवी को एंटीलिया के बाहर पार्क करके चला गया था. संदिग्ध कार दिखने के बाद अंबानी के घर के सुरक्षाकर्मियों ने स्थानीय पुलिस को इसके बारे में सूचित किया था. इसके बाद मुंबई पुलिस ने मामले की जांच करनी शुरू कर दी थी. Also Read - Antilia Case: NIA ने एनकाउंटर स्पेशलिस्ट पूर्व पुलिस अफसर प्रदीप शर्मा से 9 घंटे तक की पूछताछ

संदिग्ध गाड़ी  में रखा था धमकी भरा पत्र
सूत्रों के मुताबिक, इस संदिग्ध गाड़ी में से एक पत्र भी मिला था, जो हाथ से लिखा गया था. सूत्रों ने बताया था कि चिट्ठी में लिखा है, ‘ये तो सिर्फ एक ट्रेलर है,नीता भाभी, मुकेश भैया, ये तो सिर्फ एक झलक है. अगली बार सामान पूरा होकर तुम्हारे पास आएगा और पूरा इंतजाम हो गया है.’ Also Read - सेबी के जुर्माने के खिलाफ अपील करेंगे मुकेश अंबानी

इस्रायली दूतावास के बाहर हुए धमाके में भी शामिल था जैश उल हिंद
राजधानी दिल्ली में 29 जनवरी की शाम को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था वाले वीआईपी इलाके लुटियंस जोन में एपीजे अब्दुल कलाम रोड पर स्थित इस्रायली दूतावास के पास एक बम विस्फोट हुआ था. गणतंत्र दिवस के कारण घोषित हाई अलर्ट के बीच शाम 5.05 बजे दूतावास से महज 150 मीटर दूर जिंदल हाउस के सामने हुए धमाके में कोई घायल नहीं हुआ था, लेकिन आसपास खड़ी तीन कारों के शीशे टूट गए थे. इसके एक दिन बाद आतंकी संगठन जैश उल हिंद ने टेलिग्राम के जरिए धमाके की जिम्मेदारी ली थी.