मुंबई. बृहन्मुंबई महानगर निगम (बीएमसी) में बुधवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) तथा शिवसेना के पार्षदों की तीखी नोकझोंक के बीच एक तरफ जहां भाजपा पार्षदों ने ‘मोदी, मोदी’ के नारे लगाए, वहीं शिवसेना पार्षदों ने ‘चोर है, चोर है’ के नारे लगाए. यह घटना महाराष्ट्र के वित्तमंत्री सुधीर मुंगतीवार तथा शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की मौजूदगी में घटी, जो बृहन्मुंबई नगर निगम में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को लागू करने को लेकर आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने बीएमसी पहुंचे थे.Also Read - Mumbai Coronavirus Update: मुंबई में 20 महीनों में पहली बार कोविड से कोई मौत नहीं, पूरे महाराष्ट्र में 1715 नए मामले सामने आए

जैसे ही उद्धव ठाकरे बीएमसी मुख्यालय पहुंचे, भाजपा पार्षदों ने जोर-जोर से ‘मोदी, मोदी’ के नारे लगाने शुरू कर दिए, जिसके जवाब में शिवसेना पार्षद ‘चोर है, चोर है’ के नारे लगाने लगे. भाजपा पार्षद मकरंद नारवेकर से कथित तौर पर शिवसेना पार्षदों ने बीएमसी भवन के बाहर प्रतीक्षा कक्ष में हाथापाई की. Also Read - राजनीतिक बदले के लिए CBI, NCB और आयकर विभाग जैसी संस्थाओं का दुरुपयोग कर रही है केंद्र सरकार : शरद पवार

शिवसेना के पार्षद किशोरी पेडणेकर ने कहा कि जब कुछ पार्षदों ने शिवसेना के संस्थापक दिवंगत बाल ठाकरे के खिलाफ नारे लगाए, तब उन्होंने प्रतिक्रिया की. वहीं, नारवेकर ने अपनी तरफ से बाल ठाकरे के खिलाफ अपमनानजक शब्दों के इस्तेमाल से इनकार किया.
बाद में मुंगतीवार ने जीएसटी के कारण नुकसान के मुआवजे के तौर पर बीएमसी को 647 करोड़ रुपये का चेक सौंपा. Also Read - 550 केक काटकर रेलवे स्टेशन पर मनाया जन्मदिन, Video Viral; पुलिस में शिकायत

मुंगतीवार ने कहा, “राज्य सरकार कतई नहीं चाहती है कि किसी भी तरह से मुंबई की प्रगति प्रभावित हो, इसलिए हम हम यह रकम जीएसटी लागू करने के कारण हुए घाटे के मुआवजे के तौर पर सौंप रहे हैं.