मुंबई: भारी बारिश के कारण पश्चिम रेलवे के नालासोपारा और वसई स्टेशनों के बीच में फंसी लंबी दूरी की दो ट्रेनों के करीब 2,000 यात्रियों को सुरक्षित बचा लिया गया है. पालघर जिले के अधिकारी ने बताया कि नेशनल डिजास्‍टर रिलीफ फोर्स (एनडीआरएफ), पुलिस और अग्निशमन दल के संयुक्त प्रयास से मुंबई आने वाली शताब्दी एक्सप्रेस और वड़ोदरा एक्सप्रेस में फंसे करीब 2,000 यात्रियों को सुरक्षित निकाल लिया गया है. Also Read - Burevi Cyclone Latest News: चक्रवाती तूफान का संकट, दो राज्‍यों के इन तटीय शहरों में NDRF की टीमें तैनात

वड़ोदरा जंक्शन से कल रात रवाना हुई वड़ोदरा एक्सप्रेस को आज सुबह पौने पांच बजे मुंबई सेन्ट्रल पहुंचना था. पालघर उप जिलाधिकारी डॉक्टर नवनाथ जारे ने बताया कि भारी बारिश और सुबह उठी लहरों के कारण नालासोपारा और वसई स्टेशनों के बीच जलस्तर दो मीटर से भी ज्यादा बढ़ गया. जारे ने बताया कि हमने 43 कर्मियों और छह नौकाओं के साथ एनडीआरएफ की टीम को बुलाया. वह पुलिस और अग्निशमन दल के कर्मचारियों की मदद कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि वड़ोदरा एक्सप्रेस में कुछ यात्री सुबह चार बजे से ही फंसे हुए थे. अभी तक हमने दोनों ट्रेनों से करीब 2,000 यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाला है. Also Read - Cyclone Nivar Live: चक्रवाती तूफान निवार के मद्देनजर 37 हजार लोगों को निकाला गया, NDRF की 25 टीमें और पोत भी तैनात

पालघर जिले में कल सुबह साढे़ आठ बजे से आज सुबह साढ़े आठ बजे के बीच, चौबीस घंटे में करीब 240 मिलीमीटर वर्षा हुई है. जारे ने बताया कि राज्य परिवहन की 30 से ज्यादा बसों को ट्रेन में फंसे यात्रियों को लाने के लिए भेजा गया था, लेकिन वसई और आसपास जलभराव के कारण वह फंस गयीं.

ट्रेनों से सुरक्षित निकाले गये यात्रियों को वसई स्टेशन ले जाया जा रहा है. स्टेशन से उन्हें लोकल ट्रेनों और विशेष बसों से गंतव्य तक भेजा जा रहा है. एक अन्य अधिकारी ने बताया कि पालघर जिले के विभिन्न गांवों में फंसे 400 से ज्यादा लोगों को भी सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है.