Mumbai Local Latest News: कोरोना की दूसरी लहर कम होने के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बड़ी राहत का ऐलान किया है. उद्धव ठाकरे ने कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके लोगों को मुंबई लोकल (Mumbai Local) में सफर की इजाजत दे दी है. वैक्सीन की दोनों डोज लिये हुए लोग 15 अगस्त से मुंबई लोकल में सफर कर सकते हैं. हालांकि इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए दूसरी खुराक के बाद 14 दिन का अंतराल होना जरूरी है.Also Read - Mumbai Corona News: क्या मुंबई ने जीत ली कोरोना से जंग? सीरो सर्वे में 86 फीसदी आबादी में एंटीबॉडी विकसित

ठाकरे ने एक ‘लाइव वेबकास्ट’ में यह भी कहा कि उनकी सरकार दुकानों, मॉल, रेस्तरां और धार्मिक स्थलों को छूट देने पर विचार कर रही है और सोमवार को कोरोना वायरस कार्यबल की बैठक के बाद निर्णय लिया जाएगा. महानगर में उपनगरीय ट्रेन सेवाएं इस साल अप्रैल में निलंबित कर दी गई थी, जब राज्य में महामारी की दूसरी लहर के दौरान कोविड-19 के मामले चरम पर थे, वर्तमान में, सिर्फ सरकारी कर्मचारियों और आवश्यक सेवा से जुड़े कर्मियों को ही लोकल ट्रेनों में यात्रा करने की अनुमति प्राप्त है. Also Read - Maharashtra News: महाराष्ट्र में क्या फिर साथ आने वाले शिवसेना-BJP? उद्धव ठाकरे के इस बयान से लग रहीं अटकलें...

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘टीके की दोनों खुराक ले चुके लोगों को 15 अगस्त से लोकल ट्रेनों में यात्रा करने की अनुमति होगी. जिन लोगों ने कोविड-19 रोधी टीके की दूसरी खुराक के बाद 14 दिन की अवधि पूरी कर ली है वे रेलवे पास के लिए विशेष रूप से बनाए गए ऐप पर आवेदन कर सकते हैं और वे इसे अपने संबंधित स्थानीय वार्ड कार्यालयों से प्राप्त कर सकते हैं.’ Also Read - Maharashtra Lockdown Update: गणेश विसर्जन के दिन इस शहर में बंद रहेंगी दुकानें, जानें जरूरी सेवाओं के लिए क्या है आदेश...

ठाकरे ने कहा, ‘अभी तक मुंबई में 19 लाख लोगों को कोविड-19 रोधी टीके की दोनों खुराक दी जा चुकी है.’ उन्होंने कहा कि जिनके पास स्मार्टफोन नहीं है, वे ये पास ऑफलाइन प्राप्त कर सकते हैं. मुख्यमंत्री ने कहा, ‘वायरस अब भी हमारे आसपास मौजूद है और हमे निश्चिंत नहीं होना चाहिए. मैं समझ सकता हूं कि आपका धैर्य कम हो रहा है. लेकिन कृपया धैर्य नहीं खोएं.’ उन्होंने कहा कि जिन स्थानों पर कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं वहां पाबंदी बनाए रखनी होगी.

उन्होंने कहा कि पुणे, अहमदनगर, सोलापुर, कोल्हापुर, सांगली, सतारा, सिंधुदुर्ग, रत्नागिरि, बीड जिलों में स्थिति चिंता का विषय है. मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसे में इन जिलों में स्थानीय प्रशासन की जिम्मेदारी बढ़ गई है.

(इनपुट: भाषा)