Mumbai Local  Latest Updates: महाराष्ट्र में कोरोना के मामले कम होने के बाद लोगों को सबसे ज्यादा इंतजार लोकल ट्रेन को लेकर है. मुंबई की लाइफलाइन कही जाने वाली लोकल में फिलहाल सिर्फ जरूरी सेवा में लगे लोगों को ही सफर की इजाजत है. लोगों को उम्मीद थी कि अनलॉक के इस चरण में सरकार कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लिये लोगों को लोकल में सफर की इजाजत दे सकती है. हालांकि लोगों की उम्मीदों को एक बार फिर झटका लगा है. सांगली दौरे के दौरान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने ये संकेत दे दिये थे कि संभावित तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए फिलहाल लोकल ट्रेनों में पाबंदियां जारी रहेंगी और आम लोगों या वैक्सीन लिये हुए लोगों को सफर की इजाजत नहीं होगी.Also Read - Maharashtra News: महाराष्ट्र में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर राजेश टोपे का बड़ा बयान- जानें क्या दिया अपडेट...

ऐसा ही हुआ और सरकार की तरफ से जारी गाइडलांस में मुंबई लोकल में फिलहाल पहले की ही तरह सभी पाबंदियां लागू रहेंगी. उन्होंने कहा कि ‘पहले चरण में’ मुंबई के लोकल ट्रेनों में समाज के हर तबके को यात्रा की अनुमति देना कठिन होगा, क्योंकि पाबंदियों में धीरे-धीरे ढील दी जा रही है. आने वाले दिनों में इसे लेकर फैसला लिया जाएगा. Also Read - मुंबई जेल से निकला Raj Kundra, क्राइम ब्रांच का खुलासा-9 करोड़ में बेचने वाला था 119 पोर्न वीडियोज

इससे पहले आज ही बंबई हाईकोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार से सवाल किया कि कोरोना वायरस संक्रमण रोधी टीके की दोनों खुराक ले चुके लोगों को मुंबई में लोकल ट्रेनों में यात्रा करने की इजाजत क्यों नहीं दी जा सकती? मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति जीएस कुलकर्णी की पीठ ने कहा कि अगर संक्रमण रोधी टीके की खुराक लेने के बाद भी नागरिकों से घरों के अंदर रहने की उम्मीद की जाती है तो टीके की दोनों खुराक लेने का मतलब ही क्या है. Also Read - Maharashtra News: कांग्रेस ने महाराष्ट्र से राज्यसभा सीट के उपचुनाव में रजनी पाटिल को बनाया उम्मीदवार

पीठ ने महाराष्ट्र के महाधिवक्ता आशुतोष कुंभकोणि के कथन पर यह सवाल किया. कुंभकोणि ने पीठ को सूचित किया था कि राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार सभी अधिवक्ताओं, न्यायिक क्लर्क और अदालत के कर्मचारियों को लोकल ट्रेनों में यात्रा करने की अनुमति देने का ‘इच्छुक’ नहीं है. अदालत वकीलों और आम लोगों की ओर से दाखिल जनहित याचिकाओं पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें वकीलों को अदालतों और अपने कार्यालयों तक पहुंचने के लिए लोकल ट्रेनों और मेट्रो से यात्रा की मंजूरी देने का अनुरोध किया गया है. मामले की अगली सुनवाई पांच अगस्त को होगी.

इससे पहले बीते 30 जुलाई को कोरोना टास्क फोर्स की मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा था कि सरकार उन लोगों को लोकल ट्रेन (Mumbai Local Updates) में यात्रा की छूट देने पर विचार कर रही है, जो वैक्सीन की दोनों डोज लगवा चुके हैं. मुंबई लोकल पर बोलते हुए राजेश टोपे ने कहा था, ‘आज की बैठक में लोकल को लेकर अलग-अलग विचार व्यक्त किए गए हैं. जिन नागरिकों ने टीके की दोनों खुराक ली है, उन्हें यात्रा करने की अनुमति दी जानी चाहिए. इसलिए मुख्यमंत्री इस संबंध में रेल विभाग से चर्चा कर अंतिम फैसला लेंगे.