मुंबई: रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर मुंबई लोकल ट्रैक पर बैठे हजारों छात्रों ने आंदोलन खत्म कर दिया है. ट्रेनों की आवाजाही अब सामान्य होने लगी है. दादर और माटुंगा के बीच तीन घंटे बाद सेवा दोबारा बहाल हो सकी. हालांकि माटुंगा और सीएसटी के बीच पूरी तरह सेवा बहाल होने में अभी कुछ वक्त लगेगा. प्रदर्शन खत्म होने के बाद हजारों यात्रियों ने राहत की सांस ली है. Also Read - पूरी रात धरने पर बैठे रहे निलंबित सांसद, फिर चाय लेकर पहुंचे उपसभापति हरिवंश

हजारों छात्रों ने मंगलवार सुबह मुंबई की लाइफ लाइन कही जाने वाली लोकल ट्रेन सेवा को ठप कर दिया था. प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने माटुंगा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनल रेलवे स्टेशनों के बीच रेलवे ट्रैक जाम कर दिया. रेल पटरियों पर छात्रों के बैठने से ट्रेनों का आवागमन बाधित हो गया और आम-जनजीवन भी प्रभावित हुआ. सेंट्रल लाइन की 60 लोकल ट्रेन रद्द कर दी गई थीं. इससे सुबह ऑफिस जाने वाले लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा. आंदोलन कर रहे छात्र रेल मंत्री पीयूष गोयल को मौके पर बुलाने की मांग पर अड़े हुए थे. Also Read - Farm Bill 2020: कृषि विधेयक के खिलाफ आम आदमी पार्टी, पंजाब में प्रदर्शन को देगी समर्थन

सुबह 7 बजे से धरना-प्रदर्शन Also Read - पंजाब में कृषि विधेयक का क्यों हो रहा विरोध, किसानों को है डर- कहीं खत्म न हो जाए मंडियां

रेलवे में नौकरी की मांग कर रहे सैकड़ों छात्रों ने माटुंगा और दादर स्टेशन के बीच मंगलवार सुबह रेल यातायात जाम कर दिया, जिससे लाखों यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ा. मध्य रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि छात्रों ने आज सुबह करीब सात बजे रेल पटरी को जाम कर दिया जिससे माटुंगा और सीएसएमटी के बीच उपनगरीय के साथ- साथ एक्सप्रेस ट्रेन का परिचालन भी प्रभावित हुआ. अधिकारी ने बताया कि माटुंगा और सीएसएमटी के बीच सभी चार लाइनें प्रभावित हुईं. इन्हें हटाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया.

प्रदर्शन कर रहे एक छात्र ने कहा, ‘‘पिछले चार साल से कोई भर्ती नहीं हुई है. हम एक जगह से दूसरी जगह लगातार संघर्ष कर रहे हैं. 10 से अधिक छात्र आत्महत्या कर चुके हैं. हम ऐसा होने नहीं दे सकते.’’ अन्य छात्र ने कहा, ‘‘ हम यहां से तब तक नहीं हटेंगे जब तक रेल मंत्री पीयूष गोयल हमसे आकर नहीं मिलते. डीआरएम (मुंबई डिविजन के मंडल रेल प्रबंधक) से किए हमारे सभी अनुरोध अनसुने रहे हैं.’’

मध्य रेलवे के प्रमुख पीआरओ सुनील उदासी ने कहा, ‘‘जीआरपी और आरपीएफ जवानों के साथ मिलकर मुंबई पुलिस छात्रों से बातचीत कर रही है और रेलवे की प्राथमिकता पटरी खाली कराना है.’’ छात्र अपने हाथ में तख्तियां लेकरनारे लगाते हुए जीएम कोटा के तहत एक बार में निपटारा करने की मांग कर रहे हैं और उन्होंने कहा कि वे सरकार से नौकरी की मांग कर रहे हैं.

 

mumbailocal

परीक्षा पास करने के बावजूद नहीं मिली नौकरी

सुबह का समय होने की वजह से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. ट्रेन के नहीं चलने की वजह से यात्री स्टेशन पर ही फंस गए हैं. छात्रों का आरोप है कि परीक्षा में पास होने के बावजूद भी उन्हें नौकरी नहीं मिल रही है. छात्रों ने बताया  तीन साल पहले परीक्षा पास कर ट्रेनिंग लेने के बाद भी अभी तक रेलवे में नियुक्ति नहीं की गई है.

सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच चुके हैं. प्रदर्शन कर रहे छात्रों से बातचीत की जा रही है. प्रशासनिक अधिकारियों की कोशिश है कि बातचीत के जरिए पहले छात्रों को मना लिया जाए ताकि रेलवे पटरी खाली हो सके, और मुंबई में जिंदगी की रफ्तार पर किसी तरह का असर ना हो. पुलिस प्रशासन की पहली कोशिश रेलवे ट्रैक को खाली कराने की है.

mumbailocal2

ट्रैक जाम के दौरान क्या क्या हुआ

-कुर्ला से सीएसटी जाने वाली 60 ट्रेनें कैंसिल

-कुर्ला से कल्याण तक लोकल चल रही है

-कुर्ला से दादर तक कोई ट्रेन नहीं चल रही है

-मुंबई सेंट्रल लाइन पर कुछ ही ट्रेनें चल रही हैं

-सुबह 7 बजे से छात्रों का प्रदर्शन जारी

-पुलिस ने छात्रों पर लाठीचार्ज भी किया

-प्रदर्शन के बीच बेस्ट ने अतिरिक्त बसें शुरू कीं

-राज ठाकरे की पार्टी एमएनएस के नेता भी मौके पर पहुंचे