मुंबई: मराठा आरक्षण के मुद्दे के बारे में एक भी शब्द नहीं कहने का शिवसेना नेतृत्व पर आरोप लगाते हुए पार्टी विधायक हर्षवर्धन जाधव ने बुधवार को घोषणा की कि वह एक नई पार्टी शुरू करने जा रहे हैं. मराठा, धनगर एवं मुस्लिमों के लिए आरक्षण के मुद्दे पर जुलाई में इस्तीफा सौंपने वाले जाधव ने कहा कि उनकी नयी पार्टी इन समुदायों को आरक्षण दिलवाने के लिए प्रयास करेगी.

विधायक के रूप में उनके त्यागपत्र को महाराष्ट्र विधानसभा के अध्यक्ष हरिभाऊ बगाड़े ने अभी स्वीकार नहीं किया है. जाधव ने कहा कि पार्टी को इस वर्ष नवम्बर में औपचारिक रूप से शुरू किया जाएगा और यह लोकसभा चुनाव लड़ सकती है. उन्होंने औरंगाबाद से पीटीआई भाषा को फोन पर बताया कि विभिन्न जातियों के बीच सामाजिक अन्याय बढ़ गया है.

लोकसभा चुनाव 2019: यूपी की सभी 80 सीटों पर अकेले लड़ेगी शिवसेना, बीजेपी पर बोला हमला

परिणामस्वरूप मैंने एक नयी पार्टी गठित करने का निर्णय किया ताकि संविधान में वर्णित सामाजिक संतुलन को सुनिश्चित किया जा सके. इसमें समानता का अधिकार एवं समान अवसर शामिल हैं. जाधव ने कहा कि मुझसे (शिवसेना नेतृत्व द्वारा) कहा गया कि मराठा आरक्षण पर नहीं बोला जाए. मुझे यह (कुछ भी कहने पर रोक) उचित नहीं लगा क्योंकि इस मुद्दे पर कुछ लोगों ने अपनी जान दी है.