पालघर: महाराष्ट्र के पालघर में भीड़ द्वारा दो साधुओं समेत तीन लोगों को पीट-पीट कर हत्या कर देने के मामले में तीन पुलिसकर्मियों को सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने रविवार को यह जानकारी दी. अधिकारी ने बताया कि इन पुलिसकर्मियों में सहायक पुलिस निरीक्षक (एएसआई) आनंदराव काले भी शामिल हैं, जो 16 अप्रैल को हुई घटना के समय पालघर के कासा पुलिस थाने के प्रभारी थे. Also Read - परिवार से बिछड़ी तीन साल की बच्ची को पुलिस ने 2 घंटे के भीतर ही खोज निकाला, जानिये पूरा मामला

उन्होंने बताया कि काले के अलावा सहायक पुलिस निरीक्षक रवि सांलुके और कांस्टेबल नरेश धोडी को भी सेवा से बर्खास्त किया गया है. अधिकारी ने बताया, ‘ कोंकण रेंज के पुलिस महानिरीक्षक ने शनिवार को जारी एक आदेश में तीनों पुलिसकर्मियों को सेवा से बर्खास्त कर दिया.’ Also Read - VIDEO: महाराष्ट्र में ABVP कार्यकर्ताओं ने मंत्री के काफिले को रोका, पुलिस ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा

उन्होने कहा कि घटना के बाद ये तीनों पुलिसकर्मी भी अन्य पांच पुलिसकर्मियों के साथ निलंबित कर दिये गये थे. उल्लेखनीय है कि पालघर के गढ़चिंचले गांव में 16 अप्रैल को दो साधुओं और उनके वाहन चालक की भीड़ ने बच्चा चोर होने के संदेह में पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. वे लोग सूरत जा रहे थे. Also Read - महाराष्ट्र: पालघर में केमिकल फैक्ट्री में ब्लास्ट, एक मजदूर की मौत, कई घायल

पुलिस ने बताया कि इस मामले में करीब 154 लोगों को गिरफ्तार किया गया और 11 किशोरों को हिरासत में लिया गया. मामले की जांच महाराष्ट्र सीआईडी को सौंपी गई थी जिसने अदालत में तीन आरोपपत्र दाखिल किये हैं. सरकार ने पालघर जिला पुलिस प्रमुख गौरव सिंह को भी अवकाश पर भेज दिया था.