मुंबई: महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि उन्हें संदेह था कि बिहार के पूर्व पुलिस प्रमुख गुप्तेश्वर पांडे एक्‍टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में बीजेपी नेता की तरह बात कर रहे हैं और यह बात अब सही साबित हो गई है.Also Read - Maharashtra Rain Latest Update: बाढ़, भूस्खलन से 82 लोगों की मौत, 59 लोग लापता, रायगढ़ सबसे अधिक प्रभावित

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले की सीबीआई जांच की मांग करने वाले पांडे महाराष्ट्र में गैर-भाजपा दलों के निशाने पर हैं. हाल ही में उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली है और कयास लगाए जा रहे हैं कि वह अक्टूबर-नवंबर में बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव में किस्मत आजमा सकते हैं. Also Read - JEE-Main Update: महाराष्ट्र के वर्षा प्रभावित क्षेत्रों के जेईई-मुख्य परीक्षा के अभ्यर्थियों को एक और मौका मिलेगा

पांडे के हालिया बयानों और भाजपा के साथ नजदीकी को लेकर महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी सरकार में साझेदार शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस उनपर निशाना साध रहे हैं. देशमुख ने गुरुवार को गोंदिया में मीडियाकर्मियों से बात करते हुए भाजपा पर बिहार चुनाव के मद्देनजर साजिश के तहत महाराष्ट्र और इसकी पुलिस को बदनाम करने का आरोप भी लगाया. Also Read - Maharashtra Lockdown Update: महाराष्ट्र में इन लोगों को मिल सकती है लॉकडाउन की पाबंदियों से छूट, जानिए क्या है सरकार का प्लान

राज्‍य के गृह मंत्री व एनसीपी नेता ने कहा ”बीते डेढ़-दो महीने के दौरान आपने देखा कि वरिष्ठ पुलिस अधिकारी होने के बावजूद पांडे ऐसे बात कर रहे थे जैसे कि भाजपा के वरिष्ठ नेता हों और अब यह बात सही साबित हो गई है.”

देशमुख ने कहा ”वह इस्तीफा दे चुके हैं…मैं केवल एक ही बात कहना चाहूंगा कि यह बिहार चुनाव को ध्यान में रखते हुए महाराष्ट्र और यहां की पुलिस को बदनाम करने की भाजपा की साजिश थी.” पांडे ने मंगलवार को स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने के बाद अगले दिन कहा था कि अब वह ‘आजाद’ हैं और चुनाव लड़ना कोई गलत काम नहीं है.