नागपुर: महाराष्ट्र के वर्धा जिले में पीछा करने वाले एक व्यक्ति द्वारा पिछले सप्ताह आग के हवाले की गई एक युवती लेक्चरर की सोमवार की सुबह नागपुर के एक अस्पताल में मौत हो गई. वर्धा में विकेश नगराले (27) ने हिंगणघाट निवासी अंकिता पिसुड्डे (25) को तीन फरवरी को आग के हवाले कर दिया था, जिसके कारण वह 40 प्रतिशत तक झुलस गई थी.

युवती का नागपुर के ”ओरेंज सिटी हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर” में इलाज चल रहा था. हिंगणघाट के पुलिस निरीक्षक सत्यवीर बंडीवार ने कहा, ”डॉक्टर ने आज सुबह 6 बजकर 55 मिनट पर उन्हें मृत घोषित कर दिया.”

अस्पताल प्रशासन ने बुलेटिन जारी किया था, जिसके अनुसार युवती का सिर, चेहरा, बायां हाथ, पीठ और गर्दन समेत 40 प्रतिशत हिस्सा झुलस गया है. श्वसन तंत्र भी प्रभावित होने के साथ उसे आंतरिक घाव भी आए हैं. पीड़िता को सीसीयू में भर्ती कराया गया था.

स्थिति बेहद गंभीर ही बनी रही
अस्पताल प्रशासन ने बताया कि सोमवार की तड़के करीब चार बजे वेंटिलेटर पर होने के बावजूद उसके ऑक्सीजन स्तर में कमी आ गई थी. इसके साथ ही मूत्र में कमी और उसका रक्तचाप कम हो गया था. उसने बताया कि इसके बाद उसका रक्तचाप ठीक करने के लिए दवाइयां बढ़ाईं गई और ऑक्सीजन का स्तर ठीक करने के लिए भी कदम उठाए गए, लेकिन उसकी स्थिति बेहद गंभीर ही बनी रही.

सुबह 6:55 बजे पर दम तोड़ा
अस्‍पताल ने कहा, ”सुबह लगभग साढ़े छह बजे उसकी हृदय गति कम हो गई और लगातार उसे बचाने के प्रयास के बावजूद वह बच नहीं पाई और सुबह छह बजकर 55 मिनट पर उसे मृत घोषित कर दिया गया.”

सेप्टिक शॉक के कारण हुई मौत
बुलेटिन के अनुसार, उसकी मौत संभवत: सेप्टिक शॉक के कारण हुई. सेप्टिक शॉक में शरीर में संक्रमण फैल जाता है, जिससे शरीर के कई अंग खराब हो जाते हैं और रक्तचाप खतरनाक ढंग से कम हो जाता है. उन्होंने बताया कि महिला की मौत के बाद किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए अस्पताल के आसपास सुरक्षा एहतियातन कड़ी कर दी गई है.

सरकार ने उज्जवल निकम को ममाले में वकील नियुक्‍त किया
कई स्थानीय लोगों, महिलाओं और कॉलेज छात्रों ने आरोपी को मौत की सजा देने की मांग करते हुए वर्धा में गत गुरुवार को मार्च निकाला था. राज्य सरकार ने मामले में जाने माने वकील उज्जवल निकम को विशेष सरकारी वकील नियुक्त किया है.

हमलावर दो साल पहले युवती का दोस्‍त था
महिला के रिश्तेदारों के अनुसार नगराले पिछले कुछ समय से अंकिता को परेशान कर रहा था. घटना के कुछ घंटे बाद ही उसे गिरफ्तार कर लिया गया था. पुलिस ने पहले बताया था कि नगराले पीड़िता का दो साल पहले तक दोस्त था. उसके अनुचित व्यवहार के चलते अंकिता ने उससे संबंध खत्म कर लिए थे, जिसके बाद वह उसका पीछा करने लगा.