मुंबई: महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने भारतीय जनसंघ के विचारक पंडित दीनदयाल उपाध्याय को उनकी जयंती पर शुक्रवार को श्रद्धांजलि दी, लेकिन बाद में दिवंगत नेता पर अपने ट्वीट को हटा दिया. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी उपाध्याय को श्रद्धांजलि दी. ट्वीट हटाने के बारे में पूछे जाने पर पवार ने कहा, ”गुजर चुके लोगों के बारे में हम अच्छी बात करते हैं और इसी वजह से मैंने ट्वीट किया था, लेकिन राजनीति में हमें अपने वरिष्ठों को सुनना पड़ता है.” Also Read - कोरोना से सबसे ज्‍यादा प्रभावित महाराष्‍ट्र में अब तक 43,463 मौतें हो चुकी, ये है Active Cases की संख्‍या

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के वरिष्ठ नेता अजित पवार ने ट्वीट किया, ”जनसंघ के संस्थापक पंडित दीनदयाल उपाध्याय को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि.” Also Read - महबूबा मुफ्ती और फारूक अब्दुल्ला को भारत में रहने का अधिकार नहीं: केंद्रीय मंत्री

हालांकि, बाद में उन्होंने यह ट्वीट हटा दिया. पिछले साल नवंबर में महाराष्ट्र विकास आघाड़ी सरकार के गठन के पहले कुछ समय तक अजित पवार ने भाजपा से हाथ मिला लिया था. Also Read - 'आइटम विवाद': ECI ने एमपी की मंत्री इमरती देवी से 48 घंटे में मांगा नोटिस का जवाब

ट्वीट हटाने के बारे में पूछे जाने पर पवार ने कहा, ”गुजर चुके लोगों के बारे में हम अच्छी बात करते हैं और इसी वजह से मैंने ट्वीट किया था, लेकिन राजनीति में हमें अपने वरिष्ठों को सुनना पड़ता है.”

हालांकि, राकांपा नेता ने इस बारे में विस्तार से नहीं बताया. शिवसेना के अध्यक्ष ठाकरे ने उपनगर में अपने निजी आवास ‘मातोश्री’ पर उपाध्याय को श्रद्धांजलि दी.