औरंगाबादः महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को कहा कि शिवसेना के संस्थापक दिवंगत बाल ठाकरे का स्मारक शहर में जिस स्थान पर प्रस्तावित है, उस स्थान पर एक भी पेड़ नहीं काटा जाएगा. मुख्यमंत्री ने यहां संवाददाताओं से बातचीत में कहा कि कोई पेड़ नहीं काटा जाएगा, बल्कि प्रस्तावित स्मारक स्थल प्रियदर्शिनी गार्डन में स्वदेशी पेड़ों की प्रजातियां लगाई जाएंगी. Also Read - Janta Curfew News: कोरोना के बढ़ते मामले को को देखते हुए महाराष्ट्र के लातूर जिले में 27-28 फरवरी को 'जनता कर्फ्यू'

ठाकरे प्रियदर्शिनी गार्डन पहुंचे तथा स्मारक स्थल का निरीक्षण करने के बाद कहा कि स्थल पर और पौधे रोपे जाने चाहिए. यह स्थान उस वक्त से विवादों में था जब राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस ने दिसंबर की शुरुआत में मीडिया में आई खबरों पर ट्वीट किया था कि स्मारक निर्माण के लिए करीब एक हजार पेड़ काटे जाएंगे. Also Read - Maharashtra Lockdown News: महाराष्ट्र के इन दो शहरों में Lockdown की घोषणा, जानें किन चीजों पर होगी पांबदी और कहां मिलेगी रियायत

महाराष्ट्रः विधानसभा के बाद इस चुनाव में भाजपा ने लहराया परचम, चौथे नंबर पर रही NCP Also Read - BMC Guidelines: मुंबई में तेजी से बढ़ रहे कोरोना के मामलों के बीच BMC ने जारी किये सख्त दिशा निर्देश, गाइडलाइंस का नहीं किया पालन तो...

विवाद पैदा होने पर ठाकरे ने औरंगाबाद नगर निगम को यह सुनिश्चित करने को कहा कि उनके दिवंगत पिता के स्मारक के निर्माण के लिए एक भी पेड़ नहीं काटा जाए. ठाकरे ने प्रियदर्शिनी गार्डन के दौरे के दौरान एजेंसियों के साथ स्मारक योजना के ब्योरे पर चर्चा की. उन्होंने कहा,‘‘हम यहां एक भी पेड़ नहीं काटेंगे बल्कि हम यहां और पौधे लगाएंगे.’’