Omicron Cases Updates: देश और दुनिया पर छाए कोरोना वायरस COVID19 के नए वेरियंट ओमीक्रोन (Omicron) का एक मरीज महाराष्‍ट्र (Maharashtra) में मिला है, जिससे भारत में अब तक ओमिक्रोन के चार नए मामले हो गए हैं. देश में कोरोना के तेजी से प्रसार होने वाले वेरियंट Omicron का यह ताजा मामला महाराष्‍ट्र की राजधानी मुंबई (Mumbai) में मिला है. इससे पहले दो मामले कर्नाटक और एक केस गुजरात में मिला है.Also Read - अच्छी खबर! दिल्ली में बीते दो हफ्तों में कोविड के एक्टिव मरीजों की संख्या में 50% से ज्यादा की कमी, बीते 24 घंटे में 7498 नए केस

महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग की ताजा जानकारी के मुताबिक, कल्याण-डोंबिवली का एक 33 वर्षीय व्यक्ति जो हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटा है, वो ओमीक्रोन से संक्रमित पाया गया है. यह महाराष्ट्र में ओमीक्रोन का पहला और देश में चौथा मामला है. Also Read - MP Corona Update: इंदौर एयरपोर्ट पर 15 यात्री मिले संक्रमित, दुबई की उड़ान में सवार होने से रोका गया

Also Read - Republic Day 2022: अगर LIVE नहीं देख पाए तो यहां तस्वीरों में देखें अपने राज्य की झांकी

महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग ने कहा, 33 वर्षीय यात्री 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन से दुबई और दिल्ली के रास्ते मुंबई पहुंचा. उन्होंने कोई टीका नहीं लगवाया है. उनके हाई रिस्क संपर्कों में से 12 और कम रिस्क वाले संपर्कों में से 23 का पता लगा लिया गया है, इन सभी का टेस्ट नेगेटिव आया है.

महाराष्ट्र स्वास्थ्य विभाग की निदेशक डॉक्टर अर्चना पाटिल ने मुंबई में कहा, कल्याण डोंबिवली नगर निकाय क्षेत्र का एक व्यक्ति कोरोना वायरस के ओमीक्रॉन स्वरूप से संक्रमित पाया गया है. यह राज्य में पहला आधिकारिक मामला है. उन्होंने कहा, वह (व्यक्ति) चार लोगों के एक समूह के साथ आया था. उनकी आरटी-पीसीआर जांच और जीनोम अनुक्रमण भी किया जाएगा.

इससे पहले आज ही गुजरात के जामनगर में ओमीक्रोन का एक नया मामला आया है. ओमीक्रोन का पहला मामला मिलने पर ज़िला कलेक्टर ने बताया कि जामनगर में 28 नवंबर को ज़िम्बाब्वे से आए एक 72 वर्षीय व्यक्ति का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया था. जीनोम सिक्वेंसिंग के बाद गुजरात सरकार और आरोग्य विभाग ने पुष्टि की कि ये ओमीक्रोन है. ज़िला प्रशासन की तरफ से एहतियात बरती गई है. पहली बार दक्षिण अफ्रीका में मिला ओमीक्रोन स्वरूप को विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चिंता का स्वरूप वर्गीकृत किया है. भारत में ओमीक्रोन के पहले मामलों की पुष्टि कर्नाटक में दो लोगों में हुई है.

बीएमसी ने उच्च जोखिम वाले देशों से आने वाले यात्रियों के लिए सात दिन का पृथक-वास अनिवार्य किया
बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने कोरोना वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच उच्च जोखिम वाले देशों से शहर में आने वाले लोगों के लिए सात दिन का गृह पृथकवास अनिवार्य किया है. बीएमसी द्वारा शुक्रवार को जारी आदेश में कहा गया कि गृह पृथकवास की अवधि के दौरान, इसके वार्ड-स्तरीय कोविड-19 वॉर रूम के कर्मचारी इन देशों से लौटे लोगों को दिन में पांच बार कॉल करेंगे ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे प्रोटोकॉल का पालन कर रहे हैं.

मुंबई एयरपोर्ट बीएमसी को हर दिन यात्रियों की एक सूची प्राप्त होगी
मुंबई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा पर रोजाना हजारों यात्रियों का आवागमन होता है. नगरपालिका के आदेश में कहा गया है कि हवाई अड्डे के अधिकारियों के समन्वय के साथ, बीएमसी को हर दिन यात्रियों की एक सूची प्राप्त होगी, जो “उच्च-जोखिम” या “जोखिम में” के रूप में परिभाषित देशों से आते हैं. सूची में इन यात्रियों के विस्तृत पते और संपर्क नंबर भी शामिल होंगे. उसमें कहा गया, “बीएमसी को सूची रोजाना सुबह 10 बजे मिलेगी, जिसके बाद उसके कर्मचारी यात्रियों से संपर्क कर उन्हें अगले सात दिनों तक घर में पृथकवास की सूचना देंगे. पृथकवास संबंधी आदेश का पालन करना अनिवार्य है और यदि यात्री इसका उल्लंघन करते पाए जाते हैं तो उन्हें सरकार द्वारा संचालित संस्थानों में स्थानांतरित कर दिया जाएगा.

सात दिनों के बाद आरटी-पीसीआर जांच की जाएगी
आदेश में कहा गया कि सात दिनों के बाद आरटी-पीसीआर जांच की जाएगी और उसके अनुसार आवश्यक कदम उठाए जाएंगे. बीएमसी ने आदेश में कहा, “वार्ड-स्तरीय वॉर रूम यात्रियों के स्वास्थ्य की स्थिति की निगरानी के लिए दिन में पांच बार फोन कर यह सुनिश्चित करेंगे कि ये सभी यात्री अपने घर में पृथक-वास की अवधि के दौरान दिन में पांच बार कॉल करके प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कर रहे हैं.

पृथकवास के परामर्श के बारे में सूचित करने के लिए भी कहा गया
आदेश में कहा गया कि वार रूम को ऐसे अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की हाउसिंग सोसाइटी को घर में पृथकवास के परामर्श के बारे में सूचित करने के लिए भी कहा गया है. पृथकवास अवधि के दौरान किसी भी आगंतुक को उनके घर पर जाने की अनुमति नहीं होगी. यदि आदेश का उल्लंघन किया जाता है, तो हाउसिंग सोसाइटी प्रबंधन को इसकी सूचना वार्ड कार्यालय या नगरपालिका के चिकित्सा अधिकारियों को देने के लिए कहा गया है.

दिल्ली हवाई अड्डे पर कोविड-19 जांच की बुकिंग कराने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए 20 काउंटर खोले गए
दिल्ली हवाईअड्डे के अधिकारियों ने शनिवार को कहा कि कोविड-19 जांच की बुकिंग कराने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए 20 विशेष काउंटर खोले गए हैं ताकि यात्रियों को लंबी लाइनों और इंतजार से छुटकारा मिल सके. दरअसल, कोरोना वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप के मद्देनजर विदेश से आने वाले यात्रियों की जांच की जा रही है और उन पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है.

सभी यात्रियों को अनिवार्य रूप से जांच से गुजरना होगा
इस सप्ताह की शुरुआत में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के दिशानिर्देशों के अनुसार, संक्रमण की दृष्टि से जोखिम वाले देशों से आने वाले सभी यात्रियों को अनिवार्य रूप से आरटी-पीसीआर जांच से गुजरना होगा, जबकि दूसरे देशों से आने वाले यात्रियों को भी जांच से गुजरना होगा.

ओमीक्रोन स्वरूप को बेहद संक्रामक एवं घातक माना जा रहा
दिल्ली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लिमिटेड (डायल) ने कहा, यात्रियों की सुविधा के लिए, डायल ने उन यात्रियों के लिए आगमन पर 20 समर्पित काउंटर स्थापित किए हैं, जिन्होंने अपने आरटी-पीसीआर/ रैपिड पीसीआर जांच की पहले ही बुकिंग करवा ली है. बता दें कि कोरोना वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप को बेहद संक्रामक एवं घातक माना जा रहा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन भी इसे लेकर चिंता जाहिर कर चुका है. (इनपुट: भाषा)