Maharashtra Guidelines: कोरोना के नए वेरिएंट Omicron को लेकर दुनिया भर में दहशत का माहौल है. भारत में भी इससे बचाव के लिए कई उपाय उठाए गए हैं. इन सबके बीच ओमिक्रॉन के मद्देनजर विदेशी यात्रियों के लिए  महाराष्ट्र सरकार की अलग से जारी गाइडलाइंस पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने नाराजगी जताई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने महाराष्ट्र सरकार से कहा कि वह केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी SOP के मुताबिक अपने आदेश जारी करे. महाराष्ट्र के राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की तरफ से मंगलवार रात जारी दिशानिर्देशों के तहत राज्य सरकार ने ‘खतरे’ वाले देशों से आने वाले यात्रियों के लिए 7 दिनों तक इंस्टीट्यूशनल क्वारेंटाइन अनिवार्य बनाया है. इस तरह के यात्रियों को पहुंचने के दूसरे, चौथे और 7वें दिन पीसीआर जांच भी करानी होगी. अगर वे कोविड-19 से संक्रमित पाए जाते हैं तो यात्री को अस्पताल भेज दिया जाएगा. अगर यात्री नेगेटिव पाया जाता है फिर भी उसे सात दिनों तक होम क्वारेंटाइन में रहना होगा.Also Read - Maharashtra Lockdown: महाराष्ट्र में कोरोना के करीब 47 हजार नए केस, स्वास्थ्य मंत्री टोपे ने बताया- कब लगेगा लॉकडाउन

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने एक पत्र में कहा कि महाराष्ट्र सरकार द्वारा जारी आदेश केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा विदेशी यात्रियों के लिए जारी कोविड-19 एसओपी और दिशानिर्देशों के अनुसार नहीं है. उन्होंने राज्य के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव प्रदीप कुमार व्यास को लिखे पत्र में कहा, ‘इसलिए मैं आपसे आग्रह करता हूं कि भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों के अनुसार आदेश पारित करें ताकि सभी राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में दिशानिर्देशों को समान रूप से लागू किया जा सके.’ Also Read - Maharashtra Lockdown: महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने पाबंदियां बढ़ाने का दिया संकेत, कहां- 'शराब की दुकानें और उपासना स्थल के लिए...'

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा 28 नवंबर को जारी नए दिशानिर्देशों के अनुसार खतरे वाले देशों से गुजरने या आने वाले यात्रियों को पहुंचने के बाद पीसीआर जांच करानी होगी और हवाई अड्डे पर परिणाम के लिए इंतजार करना होगा और उसके बाद ही वह हवाई अड्डे से बाहर जा सकेंगे या दूसरे विमान से यात्रा कर सकेंगे. केंद्र सरकार ने ‘खतरे’ वाले देशों की सूची जारी की है. ‘खतरे’ वाले देशों की सूची में यूरोपीय संघ के देश, ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बोत्सवाना, चीन, मॉरिशस, न्यूजीलैंड, जिंबाब्वे, सिंगापुर, हांगकांग और इजराइल हैं. Also Read - Maharashtra Lockdown News: महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना पाबंदियों को किया संशोधित, जानें क्या है नई गाइडलाइंस

(इनपुट: भाषा)