पुणे: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने शुक्रवार पुणे के कोथरूड से चुनाव लड़ रहे भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष चन्द्रकांत पाटिल के खिलाफ महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के उम्मीदवार का समर्थन करने का ऐलान किया. कोल्हापुर के निवासी पाटिल को भगवा दलों के गढ़ कोथरूड से भाजपा की मौजूदा विधायक मेधा कुलकर्णी की जगह टिकट दिया गया है.

भाजपा की इस आश्चर्यजनक घोषणा के बाद कोथरूड में बाहरी उम्मीदवार के विरोध में पोस्टर सामने आए हैं. राकांपा के प्रवक्ता अंकुश काकड़े ने शुक्रवार को कहा कि राकांपा और कांग्रेस ने पाटिल के खिलाफ मतों के विभाजन से बचने के लिए मनसे उम्मीदवार किशोर शिंदे के समर्थन का फैसला किया है.

संजय निरूपम और अशोक तंवर अपनी कल्पनाओं पर लगाए लगाम, खयाली पुलाव नहीं पकाएं: कांग्रेस

काकड़े ने कहा, कोथरूड सीट पर पारंपरिक रूप से राकांपा चुनाव लड़ती रही है. सीट बंटवारे को लेकर बातचीत के दौरान हमने यह सीट हमारे सहयोगी स्वाभिमानी शेतकारी पक्ष को देने की पेशकश की थी. उन्होंने कहा, इसी बीच में पाटिल को यहां से उम्मीदवार बना दिया गया, लिहाजा हमने (राकांपा और कांग्रेस) सोचा कि अन्य उम्मीदवार को उतारकर राकांपा, कांग्रेस और मनसे की ताकत को क्यों बंटने दिया जाए.

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव : भाजपा ने जारी की उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, 12 महिला उम्मीदवार भी मैदान पर

काकड़े ने कहा कि शिंदे ने 2009 और 2014 में कोथरूड से चुनाव लड़ा, लेकिन दोनों में हार मिली. हालांकि 2009 में वह भले ही शिवसेना के चन्द्रकांत मोकाते से हार गए हों, लेकिन उन्होंने उन्हें कड़ी टक्कर दी थी. उन्होंने कहा, कोथरूड में मनसे के समर्थन का फैसला राकांपा और कांग्रेस ने स्थानीय स्तर पर लिया. दोनों दलों ने विधानसभा चुनाव के लिए राज ठाकरे नीत मनसे से गठबंधन नहीं किया है. महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर को मतदान होना है और 24 अक्टूबर को मतगणना होगी.

(इनपुट-भाषा)