मुंबई: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के गुरुवार को आए नतीजों के अनुसार जनता ने भाजपा-शिवसेना गठबंधन को शासन के लिए और पांच साल दिया है. लेकिन प्रदेश के एक पूर्व मुख्यमंत्री की ओर से भाजपा को सत्ता से दूर करने के लिए शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के ‘रोचक संभावना’ सामने आई है. पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि नतीजों के साथ महाराष्ट्र में अगली सरकार बनाने की ‘रोचक संभावना’ भी सामने आई है. लेकिन क्या कांग्रेस-राकांपा, शिवसेना से गठबंधन करेगी इसपर रुख स्पष्ट नहीं किया. उन्होंने भाजपा के मुकाबले कम अहितकर पार्टी करार दिया.

महाराष्ट्र की कुल 288 विधानसभा सीटों में भाजपा को 104 पर जीत मिली है. वहीं सहयोगी शिवसेना को 56 सीटों पर जीत मिली है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने 54 सीटें जीती हैं, जबकि कांग्रेस के खाते में 43 सीटें गई हैं. वहीं, दो सीटों के नतीजे गुरुवार आधी रात तक घोषित नहीं किए गए थे.

वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को 122, शिवसेना को 63, कांग्रेस को 42 और राकांपा को 41 सीटें मिली थी. उस चुनाव में भाजपा और शिवसेना अलग-अलग चुनाव लडे़ थे. हालांकि, बाद में शिवसेना भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार में शामिल हो गई थी.

साल 2014 के मुकाबले इस चुनाव में शरद पवार की पार्टी राकांपा की सीटों में सबसे अधिक वृद्धि हुई है, जबकि बीजेपी के सीटों में खासी कमी आई है. हालांकि, इससे मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के उत्साह में कोई कमी नहीं आई और उन्होंने कहा कि भाजपा-शिवसेना गठबंधन अगले पांच साल तक फिर शासन करेगा.

वहीं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बेटे आदित्य ठाकरे के जीत कर आने पर भाजपा को उसके वादे याद दिलाए जिसे अभी तक पूरा नहीं किया गया. पत्रकारों के इस सवाल कि किस पार्टी को मुख्यमंत्री की कुर्सी मिलेगी पर उत्साहित उद्धव ने कहा, यह समय भाजपा को वह फार्मूला याद दिलाने का है जिसका वादा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मेरे घर आकर किया था.यह फार्मूला 50-50 का था.

उद्धव ने कहा, हम भाजपा के मुकाबले कम सीटों पर लड़ने को लेकर सहमत हुए थे, लेकिन हर बार भाजपा को समायोजित नहीं कर सकते. मुझे पार्टी को फलने-फूलने देना होगा.

फडणवीस ने कहा कि 2014 के मुकाबले कम सीटें मिलने के बावजूद प्रत्याशियों के जीत का अनुपात बेहतर है. उन्होंने स्पष्ट एवं निर्णायक जनादेश देने के लिए महाराष्ट्र के लोगों का धन्यवाद किया. इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा, शिवसेना के साथ पूर्व में तय फार्मूले के साथ आगे बढ़ेगी.

इस चुनाव में जिन प्रमुख नेताओं को जीत मिली है उनमें फडणवीस और आदित्य ठाकरे के अलावा विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष धनंजय मुंडे, पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण एवं पृथ्वीराज चव्हाण, पूर्व उपमुख्यमंत्री अजित पवार शामिल हैं.

हालांकि फडणवीस सरकार में शामिल छह मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा है. चुनाव से ठीक पहले शिवसेना में शामिल हुए 11 नेताओं और भाजपा में शामिल हुए आठ नेताओं को भी हार मिली है.

सतारा लोकसभा सीट पर हुए उपचुनाव में सिक्किम के पूर्व राज्यपाल एवं एनसीपी प्रत्याशी श्रीनिवास पाटिल ने भाजपा के उदयराजे भोंसले को हराया. भोंसले इस सीट से इस्तीफा देकर भाजपा में शामिल हुए थे.