मुंबई: मुंबई के कुछ बीच पर लोगों ने जाना छोड़ दिया है. वजह है इन बीच पर जहरीली जेलिफिश की मौजूदगी. बताया जा रहा है कि जेलिफिश की वजह से अब तक 150 लोग घायल हो चुके हैं. इनके संपर्क में आने से घंटो तक दर्द रहता है और खुजली होती रहती है. सरकार ने परामर्श जारी कर लोगों से समुद्र में नहीं जाने की अपील की है. मत्स्य पालन विभाग के राज्य आयुक्त अरुण विधाले ने कहा कि जेलीफिश समंदर की लहरों के साथ बह रही है.

‘सोने के दिल वाली मछली’ ने दो भाइयों को बना दिया लखपति, इतने में बिकी

उन्होंने कहा कि जेलीफिश व्यक्ति के संपर्क में आने पर उसे काट लेती हैं. इससे दर्द होता है और शरीर का वह हिस्सा लाल हो जाता है. इससे बहरापन हो सकता है या शरीर का वह हिस्सा सुन भी हो सकता है, जहां यह मछली काटती है. इससे राहत के लिए व्यक्ति को प्रभावित हिस्से पर सिरका या गर्म पानी डाल लेना चाहिए. उन्होंने कहा कि दर्द रहने पर व्यक्ति को मेडिकल सहायता लेनी चाहिए.

मंदिर निर्माण के लिए तीन घंटे में जुटाए 150 करोड़, हर मिनट मिले 84 लाख रुपए

यहां अक्सर आने वाले लोगों का कहना है कि जेलिफिश हर साल बीच पर देखी जाती हैं, लेकिन इस साल इनकी संख्या ज्यादा है. आपको बता दें कि जुहू, अक्सा और गिरगाम चौपाटी बीच पर बड़ी संख्या में जेलिफिश देखी गईं. एक्सपर्ट्स के अनुसार हर साल मॉनसून के वक्त समुद्री किनारों पर जेलिफिश आ जाती हैं. यह उनका रीप्रोडक्शन का समय होता है. अगर कोई जेलिफिश के संपर्क में आता है और लंबे समय तक उसे दर्द रहता है तो डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए.