पुणे: भाजपा से राज्यसभा सदस्य संजय काकड़े ने शुक्रवार को पार्टी नेता पंकजा मुंडे पर हमला किया और आरोप लगाया कि वह विधानसभा चुनाव में हार के लिए ‘अन्य’ को जिम्मेदार ठहराकर पार्टी को ‘ब्लैकमेल करने की कोशिश’ कर रही हैं. महाराष्ट्र के बीड जिले में अपने पिता गोपीनाथ मुंडे की पुण्यतिथि के मौके पर एक रैली को संबोधित करते हुए पंकजा मुंडे ने बृहस्पतिवार को कहा था कि वह अपनी पार्टी से नाखुश नहीं हैं, लेकिन भाजपा उनके पार्टी में बने रहने पर फैसला करने के लिए स्वतंत्र है.

टिकट न देने का फैसला महाराष्ट्र में लिया गया, दिल्ली में नहीं: पंकजा

पूर्व मंत्री ने इसका भी संकेत दिया कि वह बीड जिले की पर्ली सीट अपने चचरे भाई और राकांपा नेता धनजंय मुंडे से इसलिए हारी क्योंकि ‘भाजपा के कुछ नेता’ नहीं चाहते थे कि वह चुनाव जीतें. काकड़े ने आरोप लगाया कि वह (पंकजा मुंडे) अपनी हार की जिम्मेदारी किसी ओर के मत्थे मढ़ने की कोशिश कर रही हैं और पार्टी से कुछ प्राप्त करने का प्रयास कर रही हैं. उन्होंने कहा कि यह कुछ हासिल करने के लिए पार्टी को ब्लैकमेल करने की कोशिश है. सांसद ने कहा कि पंकजा मुंडे के बयान से भाजपा कार्यकर्ताओं को तकलीफ हुई है.

पंकजा मुंडे का तीखा सवाल, क्या एक महिला राज्य का नेतृत्व नहीं कर सकती..?

पंकजा मुंडे ने की निर्वाचन क्षेत्र की उपेक्षा
उन्होंने कहा कि गोपीनाथ मुंडे को भी हार का मुंह नहीं देखना पड़ा, क्योंकि वह लोगों से जुड़े रहते थे. लेकिन पंकजा के मामले में ऐसा नहीं है. उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र की उपेक्षा की. जातीय राजनीति की और इसलिए वह हारीं.